कटनी जिले की जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा की ग्राम पंचायत बरही का मामला

कटनी- जिले की जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत बरही सचिव विहीन गांव के नाम से ढीमरखेड़ा ब्लॉक में चर्चा का विषय बना हुआ है

KKK 24X7.NEWS /ब्यूरो रिपोर्ट /ढीमरखेडा 

 यह है मामला

 ग्राम पंचायत बरही में करीब 2 माह हो चुके हैं   ग्राम पंचायत सचिव पदस्थ नहीं है पूर्व में ग्राम पंचायत सचिव के पद पर कमलेश हल्दकार नमक सचिव पदस्थ था उस सचिव के ट्रांसफर के कारण ग्राम पंचायत में आज करीब 2 माह हो चुके हैं कोई भी सचिव पदस्थ नहीं हुआ है जिससे ग्राम पंचायत के सभी विकास कार्य अधूरे पड़े हुए हैं ग्राम बरही में अभी कुछ समय पहले चार से पांच मृत्यु हो चुकी है और मृतक के परिवार के लोग मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए दर-दर भटक रहे हैं इस संबंध में ग्राम वासियों द्वारा कई बार लिखित और मौखिक रूप से भी जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के के पांडे से शिकायत की गई सी ई ओ साहब का इस मामले में एक ही कहना होता है कि हम जल्दी से जल्दी सचिव भेज रहे हैं  ग्राम पंचायत के लोग ग्राम पंचायत में सचिव ना होने के कारण परेशान हो रहे हैं कई महिलाओं को तो सचिव ना होने के कारण पेंशन तक नहीं मिल पा रही और ग्राम वासियों द्वारा ग्राम पंचायत के चक्कर लगाए जा रहे हैं ग्राम पंचायत में जब ग्राम वासियों द्वारा जाकर देखा जाता है तो ग्राम पंचायत में ताला लटका ही नजर आता है ऐसे में सवाल यह उठता है कि ग्राम पंचायत का विकास कैसे संभव हो सकता है ग्राम पंचायत शुकुल पिपरिया से लेकर ग्राम पंचायत बरही तक प्रधानमंत्री  ग्राम सड़क योजना द्वारा जो सड़कें बनाई गई थी उन सड़कों की दुर्दशा बहुत ही ज्यादा  खराब स्थिति में है ग्राम वासियों का उस सड़क से निकलना और आना जाना भी मुश्किल हो जाता है प्रशासन इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है कई बार ग्राम पंचायत के सरपंच महेंद्र माझी द्वारा सचिव ना होने की शिकायत जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा में की गई परंतु ग्राम पंचायत का सरपच सीधे होने का फायदा जनपद पंचायत में बैठे अधिकारी उठा रहे हैं लगता है कि अधिकारियों ने ऐसा मन बना लिया है कि हम ग्राम पंचायत में सचिव भेजेंगे ही नहीं  इस संबंध में जब मीडिया ने भी जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी से अभी कुछ समय पहले बात की थी तो उनका कहना था कि हम अति शीघ्र ग्राम पंचायत बरही की समस्या का निराकरण करवा देंगे परंतु आज दिनांक तक समस्या का निराकरण ना होना कहीं ना कहीं संदेह के घेरे में नजर आता है!



Share To:

Post A Comment: