दिव्य कुम्भ भव्य कुम्भ पर आधारित छायाचित्र प्रदर्शनी का मण्डलायुक्त  ने किया अवलोकन


KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
        प्रयागराज
विकास कुमार पटेल


मण्डलायुक्त को शाल एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर किया गया सम्मानित छायाचित्र प्रदर्शनी का अवलोकन से पुनः कुम्भ मेला-2019 की यादें हुई ताजा मण्डलायुक्त, 


प्रयागराज कुम्भ की तर्ज पर माघ मेले के आयोजन का किया जायेगा प्रयास-कमिश्नर
कुम्भ मेला के दौरान प्रयागराज की जनता द्वारा दिये गये सहयोग की मण्डलायुक्त ने की सराहना  
24 सितम्बर, 2019 प्रयागराज।
उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र में कुम्भ मेला प्राधिकरण प्रयागराज व हरीश्याम मानव कल्याण शिक्षा एवं शोध संस्थान की ओर से 23 से 26 सितम्बर तक लगाये गये दिव्य कुम्भ भव्य कुम्भ पर आधारित छायाचित्र प्रदर्शनी का मण्डलायुक्त प्रयागराज डाॅ0 आशीष कुमार गोयल ने मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया। मण्डलायुक्त ने वहां पर लगी हुई दिव्य कुम्भ भव्य कुम्भ पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रदर्शनी में विशिष्ट अतिथि के रूप में किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी भी उपस्थित रही।
मण्डलायुक्त ने भव्य कुम्भ दिव्य कुम्भ पर आधारित प्रदर्शनी को देखा, इसके उपरान्त सांस्कृतिक केन्द्र के हाॅल में चल रहे चलचित्र को भी देखा, जिसमें कुम्भ के दौरान ली गयी बेमिसाल फोटों को दिखाया गया। कार्यक्रम में मण्डलायुक्त ने अपने सम्बोधन में कहा कि आज यह प्रदर्शनी देखकर कुम्भ की याद ताजा हो गयी और इस तरह के प्रयास को खुले मन से सराहा। उन्होंने कहा कि इस तरह से पेपर कटिंग का कलेक्शन करना ओर इतनी मेहनत से इसको संजोकर रखना अद्वितीय है। ऐसा लग रहा है जैसे हम लोग वापस कुम्भ में पहुंच गये।
मण्डलायुक्त ने कहा कि इस बार लगने वाले माघ मेले की तैयारियां शुरू हो गयी है। इस बार हम कुछ वैसा ही माघ मेले के आयोजन का प्रयास करेंगे, जैसा कुम्भ-2019 में किया गया था। माघ मेले में साफ-सफाई की व्यवस्था पर हमारा विशेष ध्यान रहेगा। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास होगा कि माघ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए व्यवस्था कुम्भ की तर्ज पर किया जाय। उन्होंने कहा कि जिस जगह पर मेले का आयोजन होता है, वहां पर इस समय गंगा यमुना के बाढ़ का पानी भरा हुआ है, कुछ दिन बाद इसी जगह पर माघ मेले का बसाया जायेगा। यह सब एक चमत्कार की तरह अनुभव होता है। मण्डलायुक्त ने अपने सम्बोधन में प्रयागराज की जनता को कुम्भ मेले के दौरान सहयोग प्रदान करने के लिए उनकी सराहना की और कहा कि चाहे जनप्रतिनिधि हो, मीडिया बन्धु, सिविल डिफेंस, सरकारी अमला, कुम्भ सेवा मित्र एवं मेले में आये हुए श्रद्धालुओं को कुम्भ को दिव्य कुम्भ बनाने में दिये गये योगदान को भी सराहा और इसी के साथ सफाई कर्मींयों की भी तारिफ करते हुए कहा कि कुम्भ को स्वच्छ कुम्भ बनाने में आप लोगो का योगदान काबिलेतारिफ है।
कार्यक्रम में मण्डलायुक्त को शाल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इससे साथ ही कुम्भ मेला-2019 में उत्कृष्ट कार्य करने वाले पत्रकारों, अधिकारियों और कर्मचारियों को मण्डलायुक्त महोदय व महामण्डलेश्वर स्वामी लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी जी द्वारा शाल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

जिलाधिकारी प्रयागराज ने आपदा प्रबन्धन में लगे अधिकारियों के साथ बाढ़ की समीक्षा की
नगर निगम को शहरी एवं डी0पी0आर0ओ0 को ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई एवं दवाओं के छिड़काव के जिलाधिकारी ने दिये निर्देश
पशुओं के रहने तथा चारे आदि की प्रचुर मात्रा में व्यवस्था की जाय-जिलाधिकारी, प्रयागराज
विद्युत अभियन्ताओं को बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में बाढ़ का पानी घटने के बाद तत्काल विद्युत आपूर्ति सुनिश्चत करने के निर्देश
जिलाधिकारी प्रयागराज  भानुचंद्र गोस्वामी ने आपदा प्रबन्धन में लगे हुए अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी-  अरविंद सिंह, ए0डी0एम0 वित्त  एम0के0 सिंह, ए0डी0एम0 प्रशासन वी0एस0 दूबे, मुख्य चिकित्सा अधिकारी-जी0एस0 वाजपेयी एवं जनपद के सभी उपजिलाधिकारी ए0सी0एम0 तथा जनपदस्तरीय अधिकारीगण मौजूद थे।
जिलाधिकारी ने सख्त लहजे में सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि सभी तहसीलों में राहत सामाग्री का वितरण शत-प्रतिशत सुनिश्चित कराया जाय तथा राहत केन्द्रों पर जो भी प्रभारी नियुक्त किये गये है, वे बाढ़ ग्रस्त लोगो की सेवा पूरे मनोयोग के साथ करें, उन्हें किसी भी तरह से परेशानी न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाय। जिलाधिकारी ने अपर नगर आयुक्त को निर्देशित करते हुए कहा कि जहां पर भी जलस्तर घट रहा है, वहां पर मुख्य मार्गों के साथ-साथ छोटी-छोटी गलियों की साफ-सफाई कराने के साथ वहां पर दवाओं का छिड़काव करना सुनिश्चित करे। उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जहां पर भी बाढ़ का पानी निकल गया है, वहां तत्काल प्रभाव से विद्युत की आपूर्ति सुनिश्चित करा दी जाय। जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग के अभियन्ताओं से ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत व्यवस्था की जानकारी ली और उन्हें निर्देशित किया कि जहां पर भी विद्युत आपूर्ति बाढ़ की वजह से बाधित हुई है, वहां पर तत्काल विद्युत आपूर्ति को बहाल कराया जाय, जिससे कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोई समस्या न आये। इसी क्रम में उन्होंने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि पशुओं के रहने और चारे आदि की उपलब्धता अभी भी रखी जायें। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि कार्य में लापरवही कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी। सभी अधिकारी सेवाभाव से बाढ़ ग्रस्त लोगो तक सहायता पहुंचाये।


Share To:

Post A Comment: