कस्तूरबा गांधी विद्यालय छावनी मे बच्चों को खिलाया जा रहा नमक रोटी

भोजन न मिलने से बीमार हो रही छात्राएँ 

विकासखंड विक्रमजोत के जितियापुर गांव में संचालित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय छावनी मे भारी अनियमितता सामने आयी है।जिसके चलते करीब आधा दर्जन से अधिक बच्चे बीमार पड़ गये।बीते अट्ठाईस अगस्त को विद्यालय के कक्षा 8 की छह बालिकाओं ममता, पुष्पा, संजना, श्रद्धा, अंसू व एक अन्य को बेहोशी की हालत में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जितियापुर पहुंचाया गया। डाक्टर ने इनके बेहोश होने का कारण पर्याप्त भोजन ना मिलना बताया जिसके चलते बच्चों का शुगर लेवल कम हो गया और वो बेहोश हो गयीं। डाक्टर ने जब उन्हें ड्रिप दिया तब वह होश मे आयी। उसके बाद जिले से पहुंची मेडिकल टीम ने छात्राओं के सिरदर्द, पेट दर्द व चक्कर से पीडित लडकियों का ईलाज किया।बालिकाओं के बीमार होने, व उन्हें पर्याप्त भोजन न मिलने के संबंध में प्रभारी खंडशिक्षाधिकारी श्यामबिहारी व मेडिकल टीम ने विद्यालय की वार्डेन विनीता पाण्डेय को जिम्मेदार माना है।जिसको लेकर खंडशिक्षाधिकारी ने वार्डेन के खिलाफ कार्रवाई करने व उन्हें त्वरित हटाने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग को लिखित शिकायत की है। कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय जितियापुर छावनी पर 99 बच्चे पंजीकृत है लेकिन वर्तमान समय में 46 बच्चों की उपस्थिति मौजूद है। इनके भोजन,स्वास्थ्य,रहन-सहन,आदि की देखभाल के लिए सरकार हर महीने चालीस हजार रुपये देती है। छात्रों को प्रतिदिन 200 ग्राम दूध देने के लिए भी निर्धारित किया गया है। शनिवार  को सर्कल न्यूज ने जब विद्यालय की पड़ताल की तो पता चला कि आज सुबह बच्चों को नाश्ते में नमक व पूरी दिया गया था।इस संबंध में जब पूंछतांछ किया गया तो पता चला कि सब्जी तैयार नहीं थी। 46 बच्चों को देने के लिए सिर्फ सात परवल व चार टमाटर डालकर सब्जी तैयार किया जाता है।रसोइया सुषमा,अमरावती,शारदा देवी से जब पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उन्हें जितनी मात्रा और जब समय से सामान उपलब्ध होता है तब भोजन बनाते है आज सामान देर से मिला तो बच्चों का भोजन समय से तैयार नहीं हो पाया।मैडम के द्वारा बाजार से जो सब्जी लायी जाती है वह भी सही नहीं रहती वार्डेन विनीता पाण्डेय की छोटी बहन संगीता ने जबरदस्ती कक्षा सात की गुफराना व आठ की छात्रा दीपांजलि, नंदिनी को डरा धमका कर यह लिखित करवा ली की हमें विद्यालय में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है, व प्रतिदिन हरी सब्जी, दूध,फल,भोजन इत्यादि समय से दिया जाता है। बता दें कि संगीता देवी कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय छावनी में होम साइंस की पार्ट टाइम टीचर के रूप में कार्यरत हैं। जब बच्चों से पूंछा गया तो बताया कि मैडम जबरदस्ती हमसे लिखित करवाईं हैं।

Share To:

Post A Comment: