स्टूडेंट्स से करते हैं अभद्र भाषा का उपयोग, प्रैक्टिकल नहीं कराने की देते हैं धमकियां

छात्रों के सवाल पर भड़के आर्य, ढीमरखेड़ा महाविद्यालय का मामला,सीएम हेल्पलाइन पर दर्ज कराई शिकायत

कलयुग की कलम (महेन्द्र सिंह पटेल)

कटनी/उमरियापान:- बीएसडब्ल्यू कर रहे छात्र- छात्राओं के साथ महाविद्यालय के एक लाइब्रेरीयन के द्वारा अभद्र व्यवहार किया जाता है। बच्चों के साथ लगातार अभद्रता भरी भाषा का उपयोग किया जाता हैं। सवाल करने पर किसी भी छात्र के भविष्य खराब करने की धमकियां दी जाती हैं। तानाशाह और अपना मनमाना रवैया अपनाते हुए बच्चों के प्रैक्टिकल नहीं कराने का दबाव बनाया जाता है। लाइब्रेरीयन द्वारा बच्चों के साथ की गई मनमानी और बरते गए गलत बर्ताव की शिकायत बीएसडब्ल्यू में अध्ययनरत छात्र छात्राओं ने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर पर कर कार्रवाई की मांग किया है।

ढीमरखेड़ा महाविद्यालय में अध्ययनरत छात्र छात्राओं ने बताया कि पेपर समाप्त होने के बाद सभी छात्र एक साथ होकर प्राचार्य कक्ष में पहुँचकर प्रैक्टिकल होने की तारीख पूछ रहे थे। कक्ष में प्राचार्य नहीं रहीं।मौके पर उपस्थित महाविद्यालय में पदस्थ लाइब्रेरीयन किशोर आर्य बोले जब तक कोई छात्र शपथपत्र नहीं देगा।तब तक हम कोई बायबा या प्रैक्टिकल नहीं लेंगे।बच्चों ने जैसे ही सवाल किया तो आर्य भड़क गए और छात्र-छात्राओं के साथ अभद्र भाषा का उपयोग करने लगे।आवेश में पहुँचे आर्य ने बच्चों के सवाल पर कहा कि अगर ज्यादा बहस करोगे तो रेस्टीकेशन कर दूँगा। मैं यहाँ पर सहायक केंद्राध्यक्ष हू।हम जैसा चाहेंगे वैसा होगा। मुझे जब प्रैक्टिकल लेना होगा तब लूंगा।जहा शिकायत करनी हो तो कर देना, मेरा कोई कुछ नहीं कर लेगा।हालांकि बच्चों पर भड़के आर्य की हरकतों और बर्ताव को देखकर बच्चे वापस लौट आये। महाविद्यालय में पदस्थ किशोर आर्य द्वारा किये गए बर्ताव की शिकायत बच्चों ने तत्काल ही मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर पर कर कार्रवाई करने की मांग किया है।वहीं इस संबंध में कलयुग की कलम के रिपोर्टर ने ढीमरखेड़ा महाविद्यालय के लाइब्रेरीयन किशोर आर्य से बात की तो आर्य पहले जबाब देने से बचते रहे फिर बोले कि छात्रों द्वारा लगाए गए आरोप निराधार हैं। वहीं महाविद्यालय प्राचार्या डॉ सुनीता श्रीवास्तव का कहना है कि हम उस समय मौके पर उपस्थित नहीं रहे। क्या हुआ क्या नहीं, इसकी जानकारी कॉलेज से पता की जाएगी।



Share To:

Post A Comment: