विद्यार्थियों की जीवन रूपी नौका को पार लगाता है शिक्षक 

गुरुवार को सरकारी और निजी स्कूलों में मनाया गया शिक्षक दिवस

कलयुग की कलम (अंकित झारिया रिपोर्टर)

उमारियापान:- शिक्षक दिवस पर गुरुवार को क्षेत्र के स्कूलों और कॉलेजों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए।बच्चों के द्वारा शिक्षकों का सम्मान किया गया। कहीं पर विद्यार्थियों ने शिक्षकों का सम्मान मां सरस्वती की प्रतिमा देकर किया तो कहीं संस्थाओं ने शॉल श्रीफल से शिक्षकों को सम्मानित किया। उमरियापान के शासकीय महाविद्यालय,शासकीय कन्याशाला स्कूल,शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय,महर्षि विश्व विद्यालय  के अलावा ग्रेस मिशन इंग्लिश मीडियम,स्कूल, जय भारत स्कूल, जय ज्ञान गंगा पब्लिक स्कूल,महर्षि विद्या मंदिर सहित सरकारी और निजी स्कूलों में विद्यार्थियों ने  शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में शिक्षकों के पैर छूकर आशीर्वाद लिया।शिक्षकों को उपहार स्वरूप तरह-तरह के गिफ्ट भेंट किया।शिक्षविद पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की प्रतिमा के समक्ष केक काटा।छात्रों ने शिक्षकों को पेन, डायरी, नोटबुक्स, बेग, फोटोफ्रेम,मा सरस्वती की प्रतिमा,रोज के अलावा अन्य उपहार गिफ्ट किये। वहीं ग्रेस मिशन स्कूल में शिक्षकों ने सेवानिवृत्त शिक्षक शिवकुमार चौरसिया को पुष्पमाला पहनाकर शॉल और श्रीफल देकर सम्मानित किया। पिपरिया सहलावन हाईस्कूल में भी ग्रामीणों और पालकों ने प्राचार्य के एल बैन को शॉल श्रीफल देकर सम्मानित किया। इस मौके पर शिक्षकों की महत्ता का बखान करते हुए विद्यार्थियों ने कहा कि  गुरु का दर्जा ही सबसे ऊंचा होता है।शिक्षक का समाज में सर्वोपरि सम्मान हैं।बच्चों ने कहा कि शिक्षक वह पतवार है जो विद्यार्थियों की जीवन रूपी नौका को पार लगाता है। वहीं शिक्षकों ने कहा कि शिक्षक की गरिमा बनाए रखते हुए भविष्य में कुशल व सफल शिक्षक बनें। समाज व राष्ट्र के विकास में सहयोग दें। इस दौरान विद्यार्थियों ने  गीत, भाषण, नाटक सहित अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।इसके अलावा विद्यार्थियों और शिक्षकों ने अपने अपने विचार रखें।इस दौरान शिक्षकों और छात्र-छात्राओं की उपस्थिति रहीं।




Share To:

Post A Comment: