दिनकर जयंती एवं प्रांतीय अधिवेशन में काव्य-शिल्प-छंद के साथ राष्ट्रीयता की हुँकार

(द्वि-दिवसीय आयोजन दिनांक 13 और 14 सितम्बर को)

(18 बाल कवि, 57 कवयित्रियों तथा 127 कवियों ने किया काव्यपाठ)

चिरमिरी - दिनकर जयंती समारोह एवं छत्तीसगढ़ प्रान्त के वार्षिक अधिवेशन का आयोजन, सालासर बालाजी मंदिर, रायपुर में आयोजित किया गया। इस अवसर पर क्षेत्र के कवि-कवियित्रियों ने भी राजधानी के मंच पर अपना जौहर दिखाकर लोगों को मंत्रमुग्ध किया। कार्यक्रम से लौटकर चिरमिरी की कवियित्री और डीएव्ही की शिक्षिका श्रीमती मल्लिका रूद्रा ने बताया कि यह छत्तीसगढ़ के साहित्य प्रेमियों के लिए एक अवसर है और इस तरह के आयोजनों से किताबों से दूर होते जा रहे भावी पीढ़ी वाले समाज को एक नई दिशा मिलेगी।

यह कार्यक्रम पद्मश्री धर्मपाल सैनी, महादेवी वर्मा के मानस पुत्र श्री प्रद्युम्न नाथ तिवारी 'करुणेश' के मुख्य अतिथिद्वय सहित न्यायमूर्ति श्री चंद्रभूषण वाजपेयी (अध्यक्ष राज्य उपभोक्ता विवाद अनुतोषण आयोग, पूर्व न्यायाधीश छ. ग. उच्च न्यायलय एवं कुलपति रा. विधि विश्वविद्यालय) तथा डॉ विनय कुमार पाठक (पूर्व अध्यक्ष छ.ग. राजभाषा आयोग),  कार्यक्रम की अध्यक्षता विधायक रायपुर एवं पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने किया। जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदीश मित्तल, संस्कार भारती के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बांकेलाल गौड़, (आगरा), राष्ट्रीय महामंत्री डॉ अशोक बत्रा (सोनीपत), सभी अतिथियों के गरिमामयी उपस्थिति में सम्पन्न हुआ । 

दिनकर जयंती समारोह में अंशीवा कौरव  (मनेन्द्रगढ़ ) को सक्रिय कार्यकर्ता एवं  वरिष्ठ साहित्यकार सम्मान से बशीर अश्क (बैकुंठपुर) को सम्मानित किया गया। सुब्रत सेन गुप्ता, मधुसूदन कैवत्य एवं रेणुका तिर्की ने काव्यपाठ में भाग लिया। कार्यक्रम के अगले सत्र में राष्ट्रीय कवि संगम की प्रांतीय काव्यशिल्पी एवं कोरिया जिला ईकाई  की उपाध्यक्ष चिरमिरी की कवयित्री मल्लिका रुद्रा ने काव्य शिल्प, भाषा व व्याकरण पर अपना वक्तव्य देकर नवोदित कवियों एवं साहित्यकारों को संबोधित किया। राष्ट्रीय कवि संगम सरगुजा संभाग के संयोजक एवं प्रांतीय उपाध्यक्ष डॉ. सपन सिन्हा और अध्यक्ष वीरांगना श्रीवास्तव ने सभी को बधाई देकर उन्हें प्रोत्साहित किया।

सरगुजा संभाग प्रभारी राजेश  सिन्हा कलयुग की कलम एवं वेब न्यूज़ चैनल मनेंद्रगढ़ कोरिया छत्तीसगढ़

Share To:

Post A Comment: