हनी ट्रैप मामले में मुख्य आरोपी आरती दयाल का असल नाम आरती वर्मा है।

कलयुग की कलम न्यूज /कटनी

कटनी। हनी ट्रैप मामले में मुख्य आरोपी आरती दयाल का असल नाम आरती वर्मा है। दरअसल आरती वर्मा ने कटनी के एक व्यवसाई पंकज दयाल के साथ लिव इन रिलेशनशिप के जरिए कुछ वक्त गुजारा और उसके बाद पंकज दयाल को ब्लैकमेल करने लगी। जब पंकज दयाल ने उसे पैसे देने से मना किया तो उसने छतरपुर थाने में पंकज दयाल को पति बताकर उसके खिलाफ केस दायर कर दिया। जिस आरती ने पंकज पर केस दर्ज कराया उस वक्त पंकज दयाल की शादी होने जा रही थी जिसके बाद पंकज दयाल और उसके पिता ने कटनी न्यायालय की शरण ली जहां एडवोकेट मिथिलेश जैन पैरवी करते हुए बताया कि आरती दयाल नहीं है बल्कि आरती वर्मा है जिसकी शादी हरियाणा के अनिल वर्मा नाम के युवक से हुई थी और यह दोनों लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे थे।

लिहाजा कटनी कोर्ट ने पंकज दयाल को राहत देते हुए एंटीसिपेटरी बेल मंजूर की थी और छतरपुर पुलिस को सूचना दी थी कि मामले में पंकज दयाल की गिरफ्तारी ना की जाए आज कटनी में उनके वकील ने इस बात का खुलासा किया है। साथ ही ऑर्डर की कॉपी भी दी है जिसमें साफ लिखा हुआ है की आरती अनिल वर्मा की पत्नी है जिसके खिलाफ भी उसने मामले दर्ज करवाए थे। एडवोकेट मिथिलेश जैन मौजूदा दौर में कांग्रेस के शहरी जिलाध्यक्ष भी है। इस लिहाज से उन्होंने इस पूरे मामले में आरएसएस और भाजपा को हाशिए पर लेते हुए कहा कि उनके कार्यकाल से ब्लैक मेलिंग का खेल चालू है जो अब निकल कर सामने आ रहा है।

हालांकि आरती दयाल के नाम का नया खुलासा होने से चर्चाओं का बाजार और गर्म हो गया है और कयास लगाए जा रहे हैं कि पंकज दयाल के अलावा भी कटनी में कई लोगों को ब्लैकमेल किया गया होगा।



Share To:

Post A Comment: