शासकीय माध्यमिक शाला मडेरा 3:28 कर दिया गया बंद, दिनांक 27/09/2019 को शिक्षक रहे नदारद

 कलयुग की कलम पत्रिका/ढीमरखेडा 

उमारियापान - जनपद  शिक्षा केंद्र अंतर्गत माध्यमिक शाला मडेरा में पदस्थ शिक्षिका उर्मिला धुर्वे अपने निर्धारित समय से पहले ही स्कूल बंद करके चली चली जाती हैं गुरुवार 3:28 पर भी स्कूल बंद मिला ग्रामीणों ने बताया कि यह तो मैडम का रोज का नियम है! तीन 3:30 पर वह अपने घर के लिए चली जाती हैं जानकारी के अनुसार विधायक की रिश्तेदार होना के कारण कोई भी अधिकारी इन पर कार्यवाही करने से बचता है!  वहीं सरकार शिक्षा व्यवस्था को लेकर लाखों रुपया खर्च कर रही है कटनी जिले के ढीमरखेड़ा तहसील में अनेकों स्कूलों में ऐसे शिक्षक पदस्थ हैं जो शिक्षा व्यवस्था को   चरमर आए हुए हैं ना इनका कोई समय है ना कोई इनका टाइम है मर्जी से आते हैं मर्जी से जाते हैं इसलिए ग्रामीणों ने कलेक्टर से मांग की है ऐसे लापरवाह शिक्षकों पर कार्यवाही की जाए!  मीडिया कर्मियों द्वारा स्कूल बंद होने की जानकारी ग्राम पंचायत के सरपंच को  फोन द्वारा दी गई सरपंच  महोदय द्वारा तत्काल स्कूल का निरीक्षण कर पंचनामा तैयार किया गया सरपच साहब के निरीक्षण के दौरान भी उनको स्कूल 3:28 पर बंद मिला  जब दिनांक 27 तारीख को एमपी न्यूज़ कास्ट वेब मीडिया द्वारा इस खबर का प्रकाशन किया गया खबर के प्रकाशन के बाद दिनांक 1/10/2019 दिन  मंगलवार को शिक्षिका द्वारा जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा प्रांगण पर चिल्ला चोट मचाई गई और वहां पर खड़े पत्रकार महेंद्र सिंह पटेल और पत्रकार अनुप दुबे के समक्ष शिक्षिका द्वारा चिल्लाते हुए बदतमीजी से पेश आते हुए यह कहा गया कि न्यूज़ चैनल द्वारा खबरों का प्रकाशन गलत किया गया है मैं स्कूल में ही थी मेरा स्कूल चालू था मीडिया द्वारा झूठी खबर का प्रकाशन किया गया शायद मैडम को यह जानकारी नहीं थी की मीडिया द्वारा ग्राम पंचायत के सरपंच से इस बात का पंचनामा भी लिया गया था उस पंचनामा में निरीक्षण के दौरान स्कूल बंद पाया गया लेकिन जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा में शिक्षिका द्वारा जिस प्रकार से अभद्रता की गई ऐसे में नहीं लगता कि यह शिक्षिका एक पढ़ी-लिखी शिक्षिका होगी यह बच्चों को क्या शिक्षा देती होगी सवाल यह उठता है कि जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा में इस प्रकार से चिल्ला चोट करना यह एक शिक्षिका को शोभा नहीं देता है इस संबंध में शिक्षिका को विधिवत व्यवहार का पूर्ण बात करना चाहिए था परंतु शिक्षिका द्वारा अभद्र व्यवहार करने से मीडिया  द्वारा शिक्षिका के ऐसे व्यवहार पर घोर निंदा की जाती है एवं इसकी शिकायत उच्च अधिकारियों से एवं शिक्षा मंत्री से मीडिया द्वारा की जाएगी प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ के पत्रकारों के साथ एक शिक्षिका द्वारा इस प्रकार की अभद्रता करना यह कहां का न्याय है

जब मीडिया के द्वारा जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा के सीईओ के के पांडे से बात की गई थी प्राथमिक शाला शिक्षिका गायब मिली सी ई ओ साहब का कहना  शिक्षिका के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी के के पांडे सी ई ओ जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा



Share To:

Post A Comment: