चार दिनों से घरों से लेकर सड़कों पसरा अंधेरा, लोंगों को समय में नही मिलता पानी, मचा रहता है हाहाकार   व्यवसायिक के अलावा घरेलू कामकाज भी होते हैं प्रभावित, विभाग बना रहा मौन

कलयुग की कलम महेंद्र सिंह पटेल 

 कटनी/उमरियापान:- घर, मोहल्ले और सड़क... सभी जगह अंधेरा पसरा हुआ है। रविवार को उमरियापान अंधेर नगरी बन गया। बिजली आपूर्ति की व्यवस्था चौपट रही। 24 घंटे में 18 घंटे बिजली घरों से दूर रही। बिजली के हाहाकार मचा रहा। बीते तीन दिनों पहले यानी कि गुरुवार से क्षेत्र में यह समस्या निरंतर बनी हुईं हैं।जिससे लोग परेशान है। रविवार को बिजली संकट का दौर सुबह-सुबह ही शुरू हो गया। सुबह 5  बजे आंख खुली तो पंखे बंद थे। 7 बजे कुछ देर के बिजली आई फिर बंद हो गई। दिन चढ़ा घड़ी के कांटे 11 बजाने लगे, पर बिजली रानी लौटी नहीं। 1 बजे बिजली ने दर्शन दिया। लोग राहत की सांस लेते, तभी एकबार फिर बिजली संकट की स्थिति लौट आयी। रविवार को सुबह दिन में ही  आसमान में बादल मंडराते रहे। हल्की रिमझिम बारिश दिन भर होती रही।  बिजली के गुल होने से बीते 4 दिनों से पानी की समस्या भी हो रही।ग्रामीणों को समय पर पानी नहीं मिल पा रहा है। पहले सुबह से दोपहर तक लोगों को पानी मिल जाता था लेकिन बिजली व्यवस्था गड़बड़ होने से शाम से रात तक या तो फिर एक दिन बाद दूसरे दिन लोगों के घरों में लगे नलों में पानी पहुँचता है। जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा लोगों के घरेलू कामकाज भी प्रभावित होते हैं।दीपावली पर्व के पहले लोग अपने घरों की साफ सफाई और पुताई भी करते हैं लेकिन बिजली की समस्या के चलते लोग काम को विराम दे दिया है। बिजली व्यवस्था कितनी सही चल रही हैं सोशल मीडिया पर कुछ लोग तो सरकार और विभाग को कोसते हुए अपना दर्द बयां करते हैं।     यह खराबी रात तक दूर नहीं हो सकी। शहर में अंधेरा पसर रहा। बिजली कब लौटेगी...? यह सवाल सभी के जुबां पर थी। पर इसका जवाब बिजली विभाग के पास नहीं था।

इनका कहना है:-  चार दिनों तक मेंटीनेंस का कार्य होना है इसके चलते बिजली बाधित रहती है।रविवार को तार टूट गई।सर्विस लाइन फाल्ट भी हो गई,इसके कारण बिजली बंद रही। सुधार करने में समय लग गया।जैसे ही सुधार हुआ बिजली चालू कर दी गई है। स्वामी प्रसाद यादव, कनिष्ठ अभियंता उमरियापान

Share To:

Post A Comment: