भ्रष्टाचार से घिरे पूर्व सीएम शिवराज भ्रष्टाचार दबाने आ रहे  रीवा...... शिव सिंह

====================
रीवा 23 अक्टूबर 2019... भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पर आरोप लगाते हुए जनता दल सेक्युलर के प्रदेशाध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने पत्रकारों से चर्चा दौरान बताया कि मुख्यमंत्री रहते हुए शिवराज सिंह चौहान ने 2 जुलाई 2017 को एक ही दिन में गिनीज बुक में नाम दर्ज कराने नर्मदा किनारे वृक्षारोपण पर 450 करोड़ रुपए का खर्च दिखाकर 7 करोड़ पौधे लगाने का फरमान जारी किया था ,एवं वृक्षारोपण की पुष्टि भी शासकीय दस्तावेजों में कर दी गई थी lजब वर्तमान सरकार ने पर्यावरण मंत्रालय, ग्रीन ट्रिब्यूनल, गिनीज बुक रिकॉर्ड एवं अन्य एजेंसी के माध्यम से जांच कराया तब यह खुलासा हुआ कि 7 करोड़ की जगह दो करोड़ भी पौधे नहीं  लगे तथा जांच में यह भी पाया गया कि 20 रुपए मूल्य के  पौधों को अन्य प्रदेशों से 100 से 200 रुपए में खरीदना दिखाया गया ,और करोड़ों के पौधों को भ्रष्टाचार का कीड़ा खा गयाl जबकि वृक्षों का जो वैज्ञानिक महत्व है, एक पौधा 10 लोगों को जीवन देता है, यानी एक वृक्ष 10 पुत्र समानl पौधरोपण भ्रष्टाचार मामले में पूर्व सीएम शिवराज सिंह के विरुद्ध  एफ आई आर एवं जांच के आदेश भी जारी किए गएl

 व्यापम घोटाला एंड मर्डर
================
 पूर्व सीएम के कार्यकाल में व्यापम घोटाले को लेकर समूचे देश का शिक्षा जगत शर्म से शर्मसार हो गया  थाl  घोटाले से बचने के लिए प्रोफ़ेसर सहित 50 से अधिक मर्डर कराए गए तथा सरकार के दबाव के चलते मामले को रफा-दफा कर दिया गयाl और जब कांग्रेस सत्ता में आई तो वह भी अपने प्रमुख वचन वादे को भूल कर व्यापम कांड  के आरोपियों को कहीं ना कहीं बचाने का प्रयास कियाl इसी तरह डंपर कांड में भी जांच को प्रभावित किया गया जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण हैl

 पूर्व मंत्री को बचाने आ रहे शिवराज
====================
दुर्भाग्य है कि पूर्व सीएम शिवराज सिंह स्कीम नंबर 6 एवं अन्य जमीन घोटालों में पूर्व स्थानीय मंत्री को बचाने रीवा रहे हैं श्री सिंह ने बताया कि बीजेपी कार्यकाल में  विकास के नाम पर एक से बढ़कर एक कारनामे होते रहे ,स्कीम नंबर 6 के नाम पर 300 करोड़ का भ्रष्टाचार किया गया तथा जनता को चुनावी जाल में फंसाने के लिए अनाधिकृत रूप से उन्हें पट्टे दिए गए एवं निशुल्क जमीन देने की घोषणा भी की गई ,जांच पर खुलासा होने पर पूर्व मंत्री को कमिश्नर नगर निगम रीवा द्वारा 5 करोड़ के भ्रष्टाचार की नोटिस दी गईl  तथा वोट की राजनीति के चलते  4लाख 75 के प्रधानमंत्री आवास का मूल्य 2 लाख रुपए बताया गया  और जब सरकार बदली  तो उसके रेट का खुलासा कर  यह कहा गया कि  वर्तमान सरकार ने   2 लाख 75 हजार रुपए बढ़ा दिए और इस तरह से आवास हीन गरीबों के सीने में  छुरा भोंकने का काम किया गयाl  इसी तरह  औने पौने दाम में  करोड़ों की जमीन  समदड़िया को दे दी गई l तथा आर्थिक लाभ के लिए  जनमानस की मंशा के विपरीत  वर्तमान जिला न्यायालय भवन को बेचने की  साजिश रची गई l इसी तरह  जितनी भी योजनाएं रीवा में आई  सभी में  व्यापक भ्रष्टाचार किया गयाl इन सब मामलों का पर्दाफाश होने पर पूर्व मंत्री सहित जिले का पूरा भाजपा परिवार तिलमिला उठा और सबको 15 वर्षों में किए गए भ्रष्टाचार में फसने का डर सताने लगा और  भ्रष्टाचार को दबाने पूर्व सीएम शिवराज सिंह  का 2 नवंबर को रीवा आगमन हो रहा हैl

  ट्रेनिंग से लौटी महापौर.
================
 जब रीवा नगर निगम क्षेत्र के भ्रष्टाचार की परत खुलने लगी,  और बीजेपी नेताओं को यह लगा कि यदि महापौर रीवा में रहेंगी तो भ्रष्टाचार की कलई जल्द खुल जाएगी ,इसलिए उन्हें बाहर ट्रेनिंग के लिए भेज दिया गया और ट्रेनिंग दौरान उन्हें यह बताया गया कि भ्रष्टाचार से जुड़े प्रश्नों का जवाब किस तरह देना हैl इस संबंध में तैयारी कराई गई, और तैयारी उपरांत महापौर  को वापस बुला लिया गया जो आपके सामने हैl
 पूर्व सीएम शिवराज से सवाल
====================
नर्मदा वृक्षारोपण घोटाले का दोषी कौन, व्यापम कांड का दोषी कौन, व्यापम कांड के कारण जो बेरोजगार छात्र सड़क पर भटक रहे हैं उनका दोषी कौन, 50 से अधिक मौतों का दोषी कौन ,किसानों की मौत का दोषी कौन, हनी ट्रैप कांड की मास्टरमाइंड कौन , सौभाग्य योजना भ्रष्टाचार का दोषी कौन ,रीवा में स्कीम नंबर 6 का दोषी कौन, नगर निगम रीवा घाटे में चल रहा है इसका दोषी कौन एवं आप की सरकार के समय हुए अन्य घोटालों का दोषी कौन कृपया आने के पहले स्पष्ट करेंl

                             भवदीय
                       शिव सिंह एड
                       प्रदेशाध्यक्ष

Share To:

Post A Comment: