दिव्य कुम्भ 2019 के बाद विश्वस्तरीय भव्य माघ मेला 2020 की तैयारियां जोरों पर


KKK न्यूज रिपोर्टर
     प्रयागराज
     सुभाष चंद्र

 प्रयागराज  स्थित गंगा यमुना व अदृश्य सरस्वती के पावन संगम तट पर आगामी माघ मेला  वर्ष 2020  मे एक बार फिर विश्व कीर्तिमान स्थापित करने के लिए सजने संवरने को तैयार है। दिव्य कुंभ -भव्य कुंभ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने दुनिया को आमंत्रित कर सनातन धर्म की पावन धरा को विश्व के पटल पर नई पहचान दिलाने का कीर्तिमान स्थापित किया था जिसे माघ मेले में भी बनाये रखने की कोशिश में मेला प्रशासन योगी सरकार के निर्देशन में लगा है।
   बता दें कि कुंभ 2019 के बाद होने वाला यह माघ मेला 2020 कई मायनों में बेहद खास  होने जा रहा है। योगी सरकार के निर्देशन में माघ मेले की तैयारियां शुरू हो चुकी है। पहली बार माघ मेले को दो हजार बीघे में बसाए जाने की योजना पर मेला प्रशासन ने काम शुरू कर दिया है। इससे पहले के माघ मेले को 2018 में 1797 बीघे में बसाया गया था। तीर्थराज प्रयागराज संगम नगरी में अब तक लगे माघ मेले की तुलना  मे इस माघ मेले 2020 को बड़े पैमाने  में बसाया जा रहा है। माघ मेला प्रशासन अधिकारी रजनीश मिश्रा के निर्देशन में मेले को स्थापित करने की रूपरेखा को अंतिम रूप दिया जा रहा है लेकिन बीते दिनों भारी बाढ़ के चलते संगम क्षेत्र के आसपास के इलाकों में अब भी दलदल की स्थिति बनी हुई है जिसके चलते काम को रफ्तार  मे नहीं आ  पा रहा  है। हालांकि मेले में पीपा पुल बनने का काम शुरू हो गया है। साथ ही ऊंचे स्थानों पर चकर्ड प्लेट गिराए जा रहे है।
आने  वाले माघ मेले को 5 सेक्टरों में बांटा गया है। दारागंज में नाग वासुकी मंदिर के पास से छतनाग क्षेत्र अरैल में तंबुओं की नगरी बसाई जाएगी। सेक्टर एक क्षेत्रफल के लिहाज से सभी सेक्टरों से सबसे ज्यादा बड़ा होगा। इसके अंतर्गत संगम क्षेत्र परेड ग्राउंड का मैदान अरैल क्षेत्र शामिल हैं। वही संगम क्षेत्र  मे भी  स्थानीय प्रशासन ने कमर कस ली है, साथ  ही सुरक्षा को लेकर  काली मार्ग तक सेक्टर एक में सम्मिलित किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत सभी सरकारी विभागों के कार्यालय कंट्रोल रूम पुलिस लाइन स्थापित कि जाएगी। वही मेला प्रशासन द्वारा तैयार किए गए रूट मैप के अनुसार सेक्टर एक को छोड़कर सभी सेक्टरों में कल्पवास की व्यवस्था होगी ।सेक्टर दो काली मार्ग से नागवासुकी तक क्षेत्र होगा जबकि 3 , 4 और 5 सेक्टर झूंसी एरिया में लगाया जाएगा। खाक चौक डंडी बाड़ा आचार्य बड़ा कुंभ मेले की तरह झूसी क्षेत्र में ही स्थापित किए जाएंगे। मेला अधिकारी रजनीश कुमार मिश्रा ने बताया कि माघ मेले की तैयारी जोर.शोर से शुरू हो गई है। सभी सेक्टरों में विभागों के काम आवंटित कर दिए जा रहे हैं ।जिन पर जल्द ही अनुपालन होगा। उन्होंने बताया कि माघ मेला स्वच्छ और सुरक्षित होगा। बताया कि माघ मेले में 80 किलोमीटर की चकर्ड प्लेट की सड़कें बनाई जाएंगी। जलापूर्ति के लिए मेला क्षेत्र में 18 नलकूप लगाए जा रहे हैं। कुल 162 किलोमीटर की पाइप लाइन बिछाई जाएगी।मेले में 12,000 एलइडी लाइटिंग होंगी। कुल 20 उप केंद्र होने पर बारह हजार एलईडी से जगमगाएगा, भूले भटके शिविर को हाईटेक किया जा रहा है। मेले में 28 उचित दर की दुकान है और 14 गैस एजेंसी या एलॉट की जा रही है। माघ मेला क्षेत्र में 20 20 बेड के दो चिकित्सालय तीन आयुर्वेदिक तीन होम्योपैथिक 10 प्राथमिक केंद्र व्यवस्थापक किया जाएगा।


Share To:

Post A Comment: