गजल गायकी में स्वर श्री खिताब से नवाजी गईं सतना की तुलसी 

किरण समारोह में सुरीली गजलों की प्रस्तुति

कलयुग की कलम पत्रिका न्यूज़ रिपोर्टर हीरा विश्वकर्मा 

कटनी। प्रतिठापूर्ण परंपरा के लिए विख्यात किरण के 45वें अखिल विश्व किरण संगीत समारोह का शुभारंभ मोहन नगर कैलवारा रोड में रात्रि 9 बजे हुआ। निर्णायक रजबअली भारती कोटा राजस्थान, श्रीमति दुर्गा शर्मा आकाशवाणी जबलपुर, किशन भट्टï, कलाकेन्द्र जबलपुर और किरण के अध्यक्ष टीकाराम कुशवाहा, सचिव हरिहरलाल स्वर्णकार, प्राचार्य ओ पी तिवारी तथा अन्य सदस्यों की उपस्थिति में दीप प्रज्जवलित हुआ। मां सरस्वती का पूजन अर्चन हुआ। निर्णायकों के परिचय और अतिथि सत्कार के बाद गजल प्रतियोगिता का आरंभ हुआ। दर्शकदीर्घा में प्रबुद्घ नागरिकों की उपस्थिति ने कार्यक्रम को नई ऊचाईंया दी। निर्णायकों के निर्णय के अनुसार कु. तुलसी त्रिपाठी तानसेन संगीत महाविद्यालय सतना ने सधी हुई गजलों की बारीकियों को प्रदर्शित करते हुए प्रथम स्थान पाया तथा 10 हजार रूपये की छात्रवृत्ति किरण स्वर्णपदक स्वरश्री की उपाधि प्राप्त की। उपविजेता का स्थान कु. वैदेही द्विवेदी रीवा ने प्राप्त किया, जिन्हें 5 हजार रूपये की छात्रवृत्ति रजत पदक प्रदान किया गया। कार्यक्रम का मुख्य आकर्षक रजबअली भारती कोटा रहे, जिन्होंने किरण मंच से सन 1983 में स्वर्ण पदक प्राप्त किया था। इतने लंबे समय के बाद भी किरण की प्रस्तुतियों का स्तर देखकर आश्चर्यचकित रहे। अंत में उन्होंने एक गजल प्रस्तुत कर अपने गायकी के अंदाज से दर्शकों की सराहना प्राप्त की। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती संदेशा नायक ने अपनी शायरी और मधुर आवाज के साथ किया और वाहवाही प्राप्त की। 










Share To:

Post A Comment: