मध्यप्रदेश में सरकार बदल गई किन्तु सरकारी तंत्र और इनके काम के तरीके नही बदले तस्वीरों को देखकर आप खुद सोचिये क्या मैंने झूठी, गलत शिकायत करी? या फिर भृष्टाचारी को बचाने के लिए मेरी शिकायत को CM Helpline में एकतरफा कार्यवाही करते हुए बन्द कर दिया!

बड़वानी/ मामला है इंदिरा सागर नहर के निर्माण में हो रहे भारी भ्र्ष्टाचार के चलते घटिया निर्माण का, किसानों की समस्याओं से जुड़ा हुआ है। बड़वानी जिले की ठीकरी तहसील के अंतर्गत ग्राम लखंगाव के किसानों की मांग पर मेरे द्वारा उक्त स्थल पर भी नहरों का निरीक्षण करने के दौरान मैंने नहरों की फोटो और वीडियो भी बनाये जिसमे स्पष्ट दिख रहा है किस तरह नई बनी नहर उखड़ रही है , घटिया निर्माण सामग्री के चलते सीमेंट कंक्रीट हाथ से ही उखड़ रहा, *नहरों में आई बड़ी बड़ी दरारें भ्र्ष्टाचार की गवाही दे रही।* उक्त शिकायत को मेरे द्वारा ऑनलाइ सीएम हेल्प लाइन पर दर्ज किया गया, किन्तु भृष्टाचारियो का कुनबा बहुत बडा ओर बलवान है जिसके चलते मेरी शिकायत पर कोई ठोस कार्यवाही नही करते हुए एक तरफा बन्द कर दिया गया। यही नही मैंने एक शिकायती पत्र *कलेक्टर महोदय बड़वानी* में भी फोटोग्राफ के साथ दिया किन्तु कोई जवाब नही आया। सरकार कोई भी बड़ा निर्माण करती है तो उस निर्माण की उम्र 100 साल तय कर निर्माण करवाती है, किन्तु ठेकेदार द्वारा अधिकारियों से मिलीभगत कर घटिया निर्माण कर उस निर्माण की उम्र 5 से 10 साल तक ही कर दी जा रही। मेरी उक्त शिकायत के संदर्भ में जिम्मेदार अधिकारी  का कहना है कि नहर का निर्माण *,टर्म कंडीशन की शर्तों के आधार पर किया गया, जो भी टूट-फुट होगी उसे सुधारने की जिम्मेदारी ठेकेदार की होगी* अर्थात स्पष्ट होता है ठेकेदार निर्माण इस तरह से कर रहा है कि वह महज 5-10 साल तक ठीक-ठाक रहे, उसके बाद सरकार जाने और नहर फूटने पर किसान भुगते। आश्चर्य की बात तो यह है कि निर्माण के महज कुछ महीनों बाद ही घटिया निर्माण की पोल खुलने लगी तो हम 100 साल के सपने क्या देखे! सरकार बदल गई, हालात नही बदले , आज भी नोकरशाही हावी है। भृष्टाचारी निडर बेखोफ है। मैं भी हार मानने वाला नही हूँ, भ्र्ष्टाचार की परतें उजागर कर के ही दम लूंगा।

जय हिन्द।

बलराम यादव प्रवक्त ब्लाक कांग्रेस कमेटी, बड़वानी







Share To:

Post A Comment: