जिर्री और बरहटा के उपयंत्रियों को सीईओ ने थमाया शोकॉज नोटिस  

दो दिन के भीतर मांगा जबाब, संतोषजनक जबाब नहीं देने पर कार्यवाही करने दी चेतावनी 

कलयुग की कलम (अंकित झारिया)

कटनी/उमरियापान:- स्व कराधान प्रोत्साहन योजना में लापरवाही बरतने वाले जिर्री सचिव संदीप अग्रहरि और बरहटा सचिव लखन शुक्ला पर निलंबन की कार्रवाई होने के बाद अब संबंधित उपयंत्रीयों के खिलाफ भी कार्रवाई की तलवार लटक रही है। ढीमरखेड़ा जनपद सीईओ ने संबंधित सेक्टर के दोनों उपयंत्रियों को शोकॉज जारी किया है।दो दिन के भीतर जबाब मांगा है। संतोषजनक जबाब नही देने पर दोनों उपयंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई करने कहा है।

जनपद सीईओ केके पांडेय ने शनिवार को जिर्री के तत्कालीन उपयंत्री सीबी चौबे और बरहटा के उपयंत्री ओमप्रकाश गुप्ता को जारी किए नोटिस में कहा है जिला पंचायत सीईओ ने सरपंच - सचिव और उपयंत्रियों को बताया था कि ग्राम पंचायतों में प्राप्त स्व कराधान की राशि तब तक न व्यय करें जब तक कि उक्त मद की कार्ययोजना अनुमोदित न हो। बाबजूद उपयंत्रियों द्वारा जिला पंचायत सीईओ के आदेश को ताक पर रखते हुए स्व कराधान की राशि से कराए गए कार्यों को जिला स्तर के अनुमोदन प्राप्त किये बिना कार्यों के प्राक्कलन तैयार कर तकनीकी स्वीकृति जारी कराई गई। कार्यों के ले-आउट देकर कार्य शुरू कराया गया।जो कि घोर लापरवाही बरतना अपने पदीय कर्तव्यों के विरुद्ध है।

इनका कहना है:- जिर्री और बरहटा के तत्कालीन दोनों उपयंत्रियों को नोटिस जारी कर दो दिन में जवाब मांगा है। संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर उच्च अधिकारी के पास कार्रवाई करने प्रतिवेदन भेजा जाएगा।:-  के के पांडेय,सीईओ ढीमरखेड़ा

Share To:

Post A Comment: