फरियाद सुनते सुनते यह विधायक करते है ईलाज, पेशे से नेत्र रोग विशेषज्ञ है विधायक डॉ विनय जयसवाल

कोरिया। आपने अब तक विधायको, सांसदों व जनप्रतिनिधियों को लोगो की समस्याओं को सुनकर निराकरण करते देखा होगा। आज हम आपको ऐसे विधायक से मिलाने जा रहे है जो लोगो की फरियाद सुनते सुनते इलाज भी करते है। इतना ही नही ये विधायक इलाज करने के साथ ही। राह चलते चलते लोगो की बीमारी सुनते है और इलाज की व्यवस्था भी करवाते है।

हम बात कर रहे है पेशे से चिकित्सक मनेन्द्रगढ़ विधायक विनय जायसवाल की। राजनीति में आने से पहले डॉक्टर विनय जायसवाल ने एमबीबीएस की पढ़ाई रायपुर के पंडित जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय से की। यहा से पढ़ाई कर विनय जायसवाल नेत्र रोग विशेषज्ञ बने। नेत्ररोग विशेषज्ञ बनने के बाद कुछ साल शासकीय चिकित्सक की नौकरी की। फिर राजनीति में आने की ललक ने विधायक विनय जायसवाल का साथ सरकारी नौकरी से छुड़वा दिया। फिर खुद का अस्पताल खोलकर विधायक आंखों का इलाज करने लगे

विधायक बनने से पहले विनय जायसवाल ने राजधानी रायपुर के आसपास के क्षेत्रों के अलावा अपनी विधानसभा क्षेत्र मनेन्द्रगढ़ के ग्रामीण अंचलों व शहरों में निःशुल्क नेत्र शिविर लगवाए। नेत्र शिविर में आने वाले मरीजो का इलाज अपने खुद के अस्पताल में निःशुल्क किया। इन्ही जनसेवा को देखते हुए कांग्रेस पार्टी ने विनय जायसवाल को मनेन्द्रगढ़ विधानसभा से प्रत्याशी बनाया और वे विधायक निर्वाचित हुए।

विधायक बनने के बाद भी विनय जायसवाल लोगो का इलाज करना नही छोड़े। जब भी विधायक लोगो की फरियाद अपने विधानसभा क्षेत्र में सुनते है तब वे लोगो का इलाज करना भी नही भूलते है। जब भी कोई बीमार व आंखों की बीमारी से ग्रसित व्यक्ति उनकी चौपाल में आता है तो वे मोबाइल की टोर्च की रोशनी से लोगो का इलाज करते है। इतना ही नही विधायक की चौपाल में अगर कोई गंभीर बीमारी वाला व्यक्ति आता है तो वे उसके इलाज का खर्चा वे खुद वहन करते है। डॉ विनय जायशवाल की राजनीति में रुचि देखकर कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्वर्गीय नंदकुमार पटेल ने उन्हें रायपुर की मनपसंद सीट से चुनाव लड़ने की बात कही थी। परन्तु डॉ विनय जायसवाल ने रायपुर से चुनाव लड़ने से इंकार करते हुए कहा कि मैं अपने जन्मभूमि चिरमिरी के लिए कुछ करना चाहता हूं मुझे अपने छेत्र के लोगों के लिए कुछ करना है इसलिए मुझे मनेन्द्रगढ़ विधानसभा से ही चुनाव   लड़ना है

डॉ विनय जयशवाल, विधायक मनेन्द्रगढ़ - 

मैं चिकित्सकीय सेवा के माध्यम से ही राजनीति में आया हु। जब मैं गावो में नेत्र शिविर लगता था तो उनके आँखों की पीड़ा के साथ साथ उनके मन के भी पीड़ा को महसूस करता था। तब मुझे चिकित्सकीय क्षेत्र सीमित महसूस हुआ, वही से मुझे लगा कि राजनीति में आकर ऐसे लोगो की सेवा करु क्योंकि सेवा करने के लिए राजनीति से अच्छा माध्यम नही हो सकता था। मैं भले ही अब विधायक बन गया हूं। लेकिन जब भी मुझे राजनीति से अलग समय मिलता है तो मैं जरूरतमंद व्यक्तियों  के आंखों का इलाज निःशुल्क करता हूं

 सौरव मिश्रा, प्रवक्ता ब्लॉक कांग्रेस कमेटी, मनेन्द्रगढ़-

जब भी हम लोग कही दौरे में जाते हैं और विधायक जी को कोई आंखों का मरीज मिलता है तो वह उसकी समस्या को तत्काल वहीं पर हल करने की कोशिश करते हैं और जरूरत पड़ने पर अपने अस्पताल में उनका पूर्णता निशुल्क इलाज भी करवाते हैं

सरगुजा संभाग प्रभारी राजेश कलयुग की कलम राष्ट्रीय मासिक  पत्रिका एवं वेब न्यूज़


Share To:

Post A Comment: