जागो आज पत्रकारिता ख़तरे में है?

हम आपकी काली करतूतों को उजागर करेंगे तो आप हमारे अखबार को बंद कर दोगे? हमारे चैनल को बंद कर दोगे? अब मध्य प्रदेश में पत्रकारिता का दम घुटने लगा है। कमलनाथ सरकार ने जिस तरह मीडिया के खिलाफ दमन चक्र चलाया है उसका असर दिख रहा है। यही कारण है कि मध्य प्रदेश में नेगेटिव स्टोरी या शासन को आईना दिखाने वाली स्टोरी कम हो गई है।

शर्मसार करने वाली एक घटना इंदौर में भी हुई दरअसल सांझा लोकस्वामी ने जन संपर्क के एक पूर्व अधिकारी (छोटे मिश्रा) की काली करतूतों का खुलासा कर दिया। इस खुलासे के बाद प्रशासन का कहर उस अखबार मालिक और अखबार पर पड़ा। खुलासे पर संज्ञान लेने के बजाय आप हमें पीड़ित कर रहे हैं ।मध्यप्रदेश में जिस तरह मीडिया को दबाया जा रहा है, ये कांग्रेस के लिए उचित नहीं है। कमलनाथ सरकार से बहुत उम्मीदें थीं। कमलनाथ के विषय में कहा जाता था कि कमलनाथ मीडिया का सहयोग करते हैं। पद पर आने के बाद कमलनाथ का दूसरा ही चेहरा उजागर हुआ है। अगर मुख्यमंत्री सोचते हैं कि उनके इस दमन चक्र से पत्रकारिता का मुंह बंद हो जाएगा तो शायद यह उनकी कोरी कल्पना है।


Share To:

Post A Comment: