किसानों की मांग को अनसुना कर रहे जिम्मेदार अधिकारी, बाकल उपार्जन केंद्र में गुस्साए किसानों ने रोकी तुलाई

बहोरीबंद जनपद उपाध्यक्ष ने शांत कराया किसानो का गुस्सा

बाकल।। बहोरीबंद तहसील के बाकल में किसानों को एक नई मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है विगत दिनों किसानों द्वारा समर्थन मूल्य में धान की बिक्री के लिए पंजीयन करवाये गए थे लेकिन जब समर्थन मूल्य की केंद्रों में तुलाई शुरू हुई तो ग्राम खमतरा ,गाढ़ा, पटना ,खखरा, कटरा ,छुरिया,बढैयाखेड़ा के किसानों का नाम लिस्ट से गायब मिला।तकरीबन इन 8 ग्रामो की मैपिंग आज दिनांक तक नही हुई जिससे किसानों की उपज नही ख़रीदी जा रही है।

गौरतलब है कि बीते दिनों किसानों ने बहोरीबंद एसडीएम को बाकल स्थित नायब तहसील कार्यालय में किसानों के नाम जल्द से जल्द केंद्रों की लिस्ट में जुड़वाने एवं मैपिंग करने की कार्यवाही के लिए आवेदन देकर आग्रह किया था लेकिन बहोरीबंद एसडीएम जैसे ही नायब तहसील कार्यालय से बाहर निकले औऱ किसानों की भीड़ देखते ही किसानों को डाट फ़टकार लगा दी औऱ कहा में आपकी मांग को उच्चाधिकारियों तक पहुँचा दूंगा इतना कहकर निकल गए।वही जिम्मेदार अधिकारी के इस रवैये से किसानों में तरह-तरह की चर्चा व्याप्त रही।

ख़रीदी केंद्र पर किसानों का हंगामा रोकी तुलाई

बाकल धान उपार्जन केंद्र में 8 गांवों के नामों की मैपिंग आज तक नही की  गई वही गुस्साए किसानों बाकल केंद्र में धान तुलाई रूकवा दी तभी मौके पर पहुँचे बहोरीबंद जनपद उपाध्यक्ष शंकर महतों ने वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा कर किसानों के गुस्से को शान्त किया और कल तक धान खरीदी शुरू होने का आश्वासन दिया तब जाकर किसानों का रोष समाप्त हुआ।वही किसानों का कहना है कि यदि हमारी धान की तुलाई शीघ्र शुरू नही होती तो हमे मज़बूरन आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा।

इनका कहना है:-

किसानो की समस्या को देखते हुए मैने माननीय कलेक्टर से फोन से बात की कलेक्टर ने कल ही ग्रामो के नाम जुड़वाकर धान ख़रीदने का आश्वासन दिया है।

शंकर महतों,जनपद उपाध्यक्ष बहोरीबंद


कलयुग की कलम संवाददाता नीलेश कुमार जैन 


Share To:

Post A Comment: