अब माफियाओं पर नकेल कसेगा दमन दल,प्रशासन को दे सूचना

 कलेक्टर ने किया दल का गठन, तहसील स्तर पर होगी कार्रवाई

कलयुग की कलम (महेन्द्र सिंह पटेल)

 कटनी/ढीमरखेड़ा:- ढीमरखेड़ा तहसील क्षेत्र में अगर कहीं अतिक्रमण हो रहा है, अवैध खनन किया जा रहा, शराब और मादक पदार्थों का अवैध कारोबार हो रहा है तो इसकी सूचना अब आप प्रशासन को दे सकेंगे। आपकी द्वारा दी गई सूचना को गोपनीय रखा जाएगा। ऐसे लोगों यानि कि माफियाओं पर नकेल कसने के लिए जिले के अलावा तहसील स्तर पर माफिया दमन दल का गठन कलेक्टर ने किया है। दमन दल एसएमएस के साथ व्हाट्सएप पर आई शिकायतों पर भी तत्काल गंभीरता से कार्रवाई करेगा। दल में प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों को शामिल किया है।कलेक्टर ने ढीमरखेड़ा तहसील स्तर में एसडीएम के नेतृत्व में  सात सदस्यीय माफिया दमन दल बनाया है।माफिया दमन दल मे अनुविभागीय अधिकारी सपना त्रिपाठी, एसडीओपी प्रमोद कुमार सारस्वत,तहसीलदार पूर्वी तिवारी, खनिज निरीक्षक अशोक मिश्रा, सहायक आपूर्ति अधिकारी रविकांत ठाकुर, आबकारी उपनिरीक्षक सतीश कुमार, सहकारिता क्षेत्राधिकारी एस के जैन को शामिल किया है। गौरतलब है कि ढीमरखेड़ा तहसील क्षेत्र में भूमि माफियाओं के साथ अवैध रेत खनन,अवैध शराब के मनमाने तौर पर बिक्री व अवैध मादक पदार्थों का विक्रय माफिया बेखौफ होकर कर रहे हैं।जिनका मानव जीवन पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। शासन को राजस्व क्षति होने के साथ कानून व्यवस्था भी बिगड़ रही हैं। इन गतिविधियों पर रोक लगाने प्रशासन ने गंभीरता से पहल शुरु किया है।

कंट्रोल रुम की भी व्यवस्था:- कलेक्टर ने जिले स्तर पर माफिया दमन दल का कंट्रोल रूम भी बनाया है। जिसके प्रभारी कार्यालय अधीक्षक प्रमोद कुमार श्रीवास्तव को बनाया है। कंट्रोल रूम प्रभारी का व्हाट्सएप नंबर 98261-60152 व कंट्रोल रूम का हेल्पलाइन नंबर 07622-222244 है। इसके अलावा एसएमएस,डाक और दूरभाष के माध्यम से भी कोई व्यक्ति सीधे शिकायत कर सकेगा। प्राप्त शिकायतों को माफिया दमन दल तक पहुचाने की जिम्मेदारी कंट्रोल रूम प्रभारी की है। माफिया दमन दल द्वार की गई कार्रवाई से कमिश्नर और कलेक्टर को भी अवगत कराया जाएगा।

इनका कहना है:- कलेक्टर ने माफिया दल का गठन किया है। तहसीलदार,खनिज निरीक्षक,एसडीओपी सहित अन्य 7 अधिकारी दल में शामिल है। तहसील क्षेत्र में संचालित हो रही अवैध गतिविधियों पर करवाई करते हुए रोक लगाई जाएगी।अवैध कारनामों में लिप्त लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।  :-  सपना त्रिपाठी, एसडीएम ढीमरखेड़ा

Share To:

Post A Comment: