सत्य घटना पर आधारित यह फिल्म 10 जनवरी 2020 को रिलीज की जाएगी।

एक घटिया सोच का शिकार हुई लक्ष्‍मी अग्रवाल…. जिन्होंने अपनी खुद की सुरक्षा करने के लिए आवाज़ ऊंची की तो इसकी कीमत उन्हें इतनी भारी पड़ी की उनपर एसिड फेंक दिया गया। कुछ ही वक़्त में उनकी पहचान लक्ष्‍मी अग्रवाल से एक एसिड सर्वाइवर की बन चुकी थी।

इस हादसे के बाद किसी भी लड़की के कदम लड़खड़ने लगते हैं कुछ ऐसा ही हुआ लक्ष्‍मी अग्रवाल के साथ जो इस हादसे के बाद पूरी हिम्मत हार चुकी थी लेकिन कुछ ही वक़्त बाद वो फिर से खड़ी हुई और समाज की इस सोच के खिलाफ बहदुरी से लड़ी। समाज से जुड़ी इस कड़वी सच्चाई को इस फिल्म में बखूबी दिखाया गया हैं।

छपाक (अंग्रेज़ी:Splash) मेघना गुलजार द्वारा निर्देशित और उनके द्वारा और साथ ही फॉक्स स्टार स्टूडियोज के सहयोग से दीपिका पादुकोण द्वारा निर्मित एक आगामी भारतीय हिंदी -भाषा नाटक फिल्म है। लक्ष्मी अग्रवाल , जिनपर 15 वर्ष की अवस्था में नईम खान नामक एक 34 वर्षीय व्यक्ति ने विवाह का प्रस्ताव ठुकरा देने के बाद तेजाब फेंक दिया था; के जीवन पर आधारित, यह विक्रांत मैसी के साथ, पादुकोण को एसिड अटैक सर्वाइवर के रूप में प्रस्तुत करती है।

फिल्म एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की वास्तविक जीवन की कहानी पर आधारित है। 

*'कोई चेहरा मिटा के और आंख से हटा के चंद छींटे उड़ा के जो गया छपाक से पहचान ले गया'* शंकर एहसान लॉय की धुनों और गुलजार के लिखे इन अल्फाजों संग फिल्म ‘छपाक’ जो सुलगना शुरू होती है तो अंत तक इसकी तपिश कायम रहती है। हमारी मुलाकात होती है मालती से, जिसके चेहरे पर किसी मनचले ने एसिड फेंकवा दिया था। झुलसे चेहरे और बुलंद इरादों वाली मालती 2020 की बॉलीवुड हीरोइन के रूप में हम सबसे रूबरू है जो आंखों में आंखें डालकर कह रही है कि ‘उन्होंने मेरा चेहरा बदला है, इरादे नहीं...’ चलते हैं, मालती की इस दुनिया में, जो भयावह होते हुए भी खूबसूरत है।

19 साल की मालती (दीपिका पादुकोण) एक गर्ल्स स्कूल में पढ़ती है। उसके स्कूल के पास ही एक बॉयज स्कूल है जिसमें पढ़ने वाले राजेश (अंकित बिष्ट) को वह चाहती है। इनकी प्रेम कहानी को ग्रहण तब लग जाता है जब बशीर खान नाम के एक परिचित दर्जी का दिल मालती पर आ जाता है। वह उसके फोन पर रोमांटिक मैसेज भेजने लगता है जिन्हें मालती चुपचाप नजरअंदाज करती रहती है। एक रोज जब वह मालती और राजेश को साथ घूमते देख लेता है, तो जलभुन जाता है। और फिर एक रोज वह अपने परिवार की एक महिला को एसिड की बोतल थमा कर मालती के चेहरे पर एसिड फिंकवा ही देता है। मालती की जिंदगी बदल जाती है। सर्जरी के बाद अपना नया चेहरा देखकर वह खुद ही डर जाती है। सजने-संवरने की तमाम चीजें संदूक में भरकर किनारे रख देती है। ऐसे में उसकी वकील (मधुरजीत सरघी) उसकी खोई हिम्मत को दोबारा जगाती हैं। उसे याद दिलाती हैं कि उस पर एसिड फेंकने वाले उसका जज्बा ही तो तोड़ना चाहते थे। बात मालती को समझ में आती है और वह तय करती है कि इस मंसूबे को वह कभी कामयाब नहीं होने देगी। इस बीच उसकी मुलाकात अमोल द्विवेदी (विक्रांत मैसी) से होती है जो एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए एक एनजीओ चलाता है। मालती अमोल की संस्था से जुड़ जाती है। वह एसिड की बिक्री रोकने के लिए अदालत में एक पीआइएल भी दाखिल करती है। आगे की कहानी और मालती के संघर्ष के बारे में जानने के लिए फिल्म देखना ही बेहतर होगा।

अभिनय

एक्टिंग के मामले में दीपिका पादुकोण ने बेजोड़ काम किया है। एक एसिड पीड़िता के एसिड सर्वाइवर बनने के सफर के दौरान मनोस्थिति में जिस तरह की तब्दीली आती है, उसे उन्होंने जबर्दस्त ढंग से अभिव्यक्त किया है। खौफ, गुस्सा और ग्लानि के भावों का जिजीविषा, खुशी और आत्मविश्वास में तब्दील होना एक अलग ही असर पैदा करता है। विक्रांत मैसी एक गंभीर, जिद्दी एनजीओ मालिक के किरदार में जंचे हैं, हालांकि उनके रोल की लंबाई थोड़ी और बड़ी होती तो अच्छा रहता। मधुरजीत सरघी वकील के किरदार में बेहद सहज लगी हैं। दीपिका और विक्रांत की केमिस्ट्री शानदार रही है। मलय प्रकाश की सिनेमेटोग्राफी अद्भुत है। कुछेक दृश्यों का फिल्मांकन गजब का है, जैसे ट्रेन में एसिड सर्वाइवर्स के दुपट्टे लहराने वाला दृश्य। फिल्म का कलेवर वैसे तो सिनेमायी है, पर इसमें कुछ-कुछ डॉक्यूमेंट्री वाला अंदाज भी है। मसाला मनोरंजन तलाश रहे लोगों के लिए यह फिल्म कतई नहीं है। फिल्म में एक कमी यह नजर आती है कि यह एसिड सर्वाइवर्स की दुनिया में थोड़ा और गहरे उतर सकती थी।


Share To:

Post A Comment: