इंदौर। रेलवे में यात्री सुविधाओं और शिकायतों के लिए अब सिर्फ एक ही हेल्पलाइन नंबर 139 काम करेगा। 1 जनवरी से इस पर 8 सेवाएं उपलब्ध होंगी और भारतीय रेल के अनेक हेल्पलाइन नंबर की जगह सिर्फ 139 नंबर ही इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके चलते अब यात्रियों को अलग-अलग नंबर याद रखने की जरूरत नहीं होगी। यह हेल्पलाइन नंबर इंटरैक्टिव वॉइस रिस्पॉन्स सिस्टम (IVRS) पर आधारित है।

भारतीय रेल ने अब 139 सेवा नंबर को एकीकृत रेलवे हेल्पलाइन में तब्दील कर दिया है,जो इंटेरेक्टिव वाइस रिस्पांस सिस्टम पर आधारित है, यात्रियों को अलग-अलग नंबर याद रखने की जरूरत नहीं है। भारतीय रेल के अनेक हेल्पलाइन नंबर की बजाय सिर्फ 139 नंबर ही इस्तेमाल किया जा सकेगा।

एक ही नंबर पर मिलेंगी 8 सुविधाएं

1 जनवरी से 139 नंबर पर यात्री कॉल या SMS के जरिए 8 सुविधाएं पा सकेंगे। इनमें सुरक्षा और मेडिकल इमरजेंसी, पूछताछ, केटरिंग, आम शिकायत, सतर्कता, ट्रेन दुर्घटना से जुड़ी सूचना, शिकायत का स्टेटस/स्थिति और कॉल सेंटर अधिकारी से बात करना शामिल है। यह हेल्पलाइन सेवा 12 भाषाओं में उपलब्ध है। अभी रेलवे ने सुरक्षित यात्रा के लिए यात्रियों को जानकारी व शिकायतों के लिए 30 से अधिक हेल्पलाइन नंबर जारी कर रखे हैं।

139 पर काल करने के बाद किस नंबर को दबाने पर कौन सी सेवा

सुरक्षा और मेडिकल इमरजेंसी- 1 नंबर दबाने पर

पूछताछः PNR, किराया और टिकट बुकिंग से जुड़ी जानकारी- 2 नंबर

केटरिंग संबंधी शिकायत- 3 नंबर पर

आम शिकायत- 4 नंबर के जरिए सतर्कता और भ्रष्टाचार की शिकायत- 5 नंबर से ट्रेन दुर्घटना से जुड़ी सूचना- 6 नंबर दबाकर शिकायत का स्टेटस/स्थिति- 9 नंबर की मदद से कॉल सेंटर अधिकारी से बात करने के लिए- 


ये नंबर बंद हो जाएंगे

सामान्य शिकायत -138  कैटरिंग सर्विस- 1800111321,  सतर्कता- 152210  दुर्घटना/संरक्षा-1072  क्लीन माई कोच- 58888/138  एसएमएस शिकायत-9717630982 एवं कंपलेंट मैनेजमेंट सिस्टम सहायता पोर्टल  बंद हो जाएंगे।

Share To:

Post A Comment: