=5वी 8वी बोर्ड परीक्षा मैं दोहरे मापदंड से बच्चों मैं जाग्रत होगी हीन भावना=

"=मप्र शासकीय अध्यापक संगठन ने सभी के लिए एक सा नियम लागू करने की कि मांग=

✍सूर्यकांत त्रिपाठी✍

             SAS कटनी

प्रदेश मै शैक्षणिक स्तर को बढ़ाने के उद्देश्य से इस सत्र 2020 मैं कक्षा 5वी,8वी की परीक्षा बोर्ड पैटर्न से आयोजित करने का निर्णय शासन स्तर पर लिया गया है,जो निश्चित रूप से स्वागत योग्य कदम है,किन्तु सरकारी एवं प्राइवेट स्कूलों के लिए अलग अलग व्यवस्था शिक्षकों एवं छात्रों को हतोत्साहित करने बाला है।

मध्यप्रदेश शासकीय अध्यापक ने स्कूल शिक्षा विभाग की दोहरी एवं षणयंत्र कारी व्यवस्था पर आपत्ति जताते हुए सरकारी एवं प्राइवेट स्कूलों मैं एक सी व्यवस्था लागू करने की मांग की है।

ज्ञात होवे की स्कूल शिक्षा विभाग इस साल से कक्षा 5वी 8वी मैं की वार्षिक परीक्षा के लिए जो निर्देश जारी किए गए है,उसके तहत सरकारी विद्यालयों मैं अध्ययनरत बच्चों का परीक्षा केंद्र स्वयं का स्कूल नही होगा, साथ ही केंद्राध्यक्ष एवं पर्यवेक्षक भी अन्य विद्यालयों से नियुक्त किये जायेंगे,उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन भी विकासखंड के बाहर किया जाएगा।वही दूसरी ओर प्राइवेट स्कूलों को खुली छूट देते हुए स्वयं के स्कूलों को परीक्षाकेन्द्र सहित केंद्राध्यक्ष पर्यवेक्षक,एवं मूल्यांकनकर्ता नियुक्त करने के आदेश प्रसारित किए गए है।

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष आरिफ अंजुम एवं कार्यकारी प्रांताध्यक्ष राकेश दुबे जिलाध्यक्ष रजनीश तिवारी,सुरजीत तिवारी,शहनाज बेगम,शालिनी तिवारी,दीपा सिंह,माधुरी शर्मा,मंजुलता जैन,ज्योस्तना मेहरा,भावना द्विवेदी,जिलाउपाध्यक्ष सूर्यकांत त्रिपाठी,जगत पटेल,दीपक नामदेव,सुशील पटेल, आशीष चौरसिया,नरेंद्र दुबे,हेमंत सांमल,सत्यदेव महोविया,अजय उपाध्याय, राकेश दुबे,सुरेश पाठक,संजीव ज्योतिषी,आदि कर्मचारी नेताओ ने मध्यप्रदेश शासन से पूरे प्रदेश मे एक ही शिक्षा नीति लागू करने की मांग की है।

Share To:

Post A Comment: