आजाद नहीं है भारत का किसान

अंग्रेजों से कहीं ज्यादा कांग्रेस बीजेपी ने  किसानों को प्रताड़ित किया..... शिव सिंह

  मध्य प्रदेश जनता दल सेक्युलर के प्रदेशाध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने भाजपा कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि अंग्रेजों से कहीं ज्यादा इन दोनों पार्टियों ने किसान को प्रताड़ित किया है जहां भारत भौगोलिक एवं संरचनात्मक दृष्टि से गांव के देश के साथ साथ सोने की चिड़िया कहा जाता था आज कांग्रेस एवं बीजेपी  के नीतिगत दुर्व्यवहार ने कृषि को संकट में डाला कृषि संकट से ध्यान हटाने आज देश के अंदर सांप्रदायिक एवं धार्मिक संस्कृत के नए संकट रचे गए भारत का किसान आजादी के 70 वर्षों के बाद आजाद नहीं वह बेरोजगारी की खेती कर रहा नफीस रिपोर्ट के मुताबिक देश के 10 करोड से अधिक किसान 53% से अधिक कर्ज़ पर दबे हुए हैं आज एक किसान परिवार की मासिक आमदनी  8 हजार रुपए है जो एक किसान परिवार के प्रति सदस्य 61 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से होती है यह हालात है देश के किसान के दूसरी तरफ भ्रष्ट  सफेदपोश नेता एवं वरिष्ठ अधिकारी कर्मचारी की प्रतिदिन की कमाई का आंकड़ा लगाया जाए तो  5 हजार रुपए से लाखों रुपए है आज देश के किसान की 60% भी  जमीन सिंचित नहीं है देश में  औसतन 5.2% किसानों के पास खेती के उपकरण हैं ना उसका बीमा है ना उसके लिए कोई नीति है देश के अंदर इन दोनों सरकारों द्वारा कोई लाभकारी  योजना आज तक तैयार नहीं की गई खून पसीने से तैयार की गई फसल को बिना मूल्य के सड़क पर फेंक कर चला आता उसका परिवार फटे हाल घूम रहा है और इन दोनों सरकारों से जुड़े 1%  लोगों ने भारत के अंदर 73% संपदा पर कब्जा जमा रखा है और हमेशा इन दोनों सरकारों ने  किसान को गुमराह कर चुनावी हथियार बनाकर उसका मात्र उपयोग किया जिसका खामियाजा पूरे भारत का किसान भोग रहा है और प्रतिवर्ष देश के अंदर 10 हजार से अधिक किसान  आत्महत्या कर रहे हैं लेकिन आप किसी सफेदपोश नेता एवं अधिकारी व अन्य को आत्महत्या करते नहीं सुना होगा यह हालात हैं इस देश के किसान  के  देश में किसानों की आवाज दबाने इन सरकारों ने कई बार गोलीबारी कराई जिससे लाखों किसान मारे जा चुके पिछले 20 -25 वर्ष का आंकड़ा मध्य प्रदेश के अंदर देखा जाए तो 19 वर्ष पूर्व 12 जनवरी 1998 को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सरकार में किसानों की आवाज दबाने मुलताई गोली कांड हुआ जिसमें 24 किसान मारे गए और 50 से अधिक घायल हुए लेकिन दिग्विजय सिंह सरकार ने घटना की कोई जिम्मेदारी तक नहीं लिया था और ऊपर से आंदोलनकारी 250 किसानों पर 67 मुकदमे पंजीबद्ध कराए गए इस तरह से कांग्रेस की तानाशाही सरकार ने किसानों के आंदोलन को कुचलने का षड्यंत्र रचा था जिसे सुनने से आज भी किसान की रूह कांप जाती है इसी तरह बीजेपी की शिवराज सरकार  के पिछले 13 सालों में 15हजार 129 किसानों ने आत्महत्या किया था तथा मंदसौर  गोलीकांड में 6 किसान मारे गए थे तथा पन्ना छतरपुर  जिले में थाने के अंदर किसानों को नंगा कर मारा गया रीवा जिले के अंदर मंडी में अनाज बेचने गए किसान को ट्रक से रौंदकर मार डाला गया तथा आज मध्य प्रदेश के अंदर  कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में दर्जनों किसानों ने आत्महत्या किया और आज मध्य प्रदेश के अंदर धान बिक्री करने महीनों से भीषण  ठंड में किसान खरीदी केंद्रों में  पड़ा हुआ है और सरकार 26 जनवरी के आजादी का जश्न मनाने तैयारी पर जुटी हुई है यह कैसी आजादी है सरकार के नेता मंत्री अधिकारी रोजाना जिलों में दौड़ाकर फूल माला पहन पहन कर वापस हो जाते हैं लेकिन किसान का दर्द कोई नहीं सुन रहा चाहे दिग्विजय सिंह सरकार रही हो या शिवराज सरकार रही हो या कमलनाथ सरकार इन सभी सरकारों में किसान की जमकर प्रताड़ना की गई व की जा रही है मैं अपने किसान भाइयों से एक किसान परिवार का सदस्य होने के नाते  विनम्र अपील करता हूं कि मेरे प्यारे किसानों यह नारा बुलंद करते हुए की भ्रष्ट सरकारों गद्दी छोड़ो कि किसान आ रहा है और अपनी सरकार बनाएं और पुन: भारत को सोने की चिड़िया बनाने में अपनी भूमिका अदा करें l

                   
                शिव सिंह एडवोकेट
                       प्रदेशाध्यक्ष
 प्रदेशाध्यक्ष जनता दल सेक्यूलर
    Mb.. 9893229788
Share To:

Post A Comment: