कड़ी सुरक्षा और सीसीटीवी कैमरे की निगरानी के बावजूद निर्भया के दोषी विनय शर्मा ने तिहाड़ जेल में फंदा लगाकर जान देने की कोशिश की। जेल सूत्राें और विनय के वकील एपी सिंह ने दावा किया कि यह घटना बुधवार सुबह की है। सुरक्षाकर्मियों ने समय रहते उसे बचा लिया। हालांकि, जेल महानिदेशक संदीप गोयल ने ऐसी किसी घटना से इनकार किया है।

सूत्रों के अनुसार विनय को जेल के मेडिकल इंस्पेक्शन रूम में 24 घंटे डाॅक्टराें की निगरानी में रखा गया। उधर, जेल सूत्रों का कहना है कि इस घटना के बाद गुरुवार काे विनय और जेल नंबर 2 में बंद मुकेश, अक्षय और पवन को जेल नंबर 3 में फांसी घर के पास हाई सिक्योरिटी सेल में शिफ्ट कर दिया गया। यह आदेश 9 जनवरी का था, लेकिन अब तक लागू नहीं हुआ था। सूत्रों के अनुसार दोषी फांसी टलवाने के लिए खुद पर केस दर्ज करवाने की कोशिश में हैं। यह घटना उस नजरिये से भी देखी जा रही है।

5-6 फीट की ऊंचाई पर ही था फंदा, इसलिए बचा

विनय जेल नंबर चार के सिंगल कमरे में बंद था। उसकी कोठरी और शौचालय के बीच सिर्फ एक पर्दा है। शौचालय में लोहे का छोटा सा खूंटीनुमा टुकड़ा लगा है। बुधवार सुबह 9 से 10 बजे के बीच उसने कपड़ाें और गमछे से फंदा बनाकर उसमें फंसाया और गले में बांधकर लटकने की कोशिश की। फंदा 5-6 फीट की ऊंचाई पर ही होने के कारण वह लटक नहीं पाया। इसी दौरान किसी कैदी ने सुरक्षाकर्मियों को सूचना दे दी।

काेर्ट ने सजा पर जेल से रिपोर्ट मांगी:तिहाड़ जेल ने सरकार को लिखा- फांसी की तारीख 22 से आगे बढ़ाएं

पटियाला हाउस काेर्ट ने फांसी की तारीख आगे बढ़ाने और दोषियों की दया याचिका पर जेल प्रशासन से शुक्रवार तक रिपाेर्ट मांगी है।

मुकेश की दया याचिका और बाकियों के पास कानूनी रास्तों को देखते हुए तिहाड़ प्रशासन ने दिल्ली सरकार को पत्र लिखकर फांसी की तारीख 22 जनवरी से आगे बढ़ाने को कहा है।

एलजी ने मुकेश की दया याचिका �

Share To:

Post A Comment: