“कैलाश विजयवर्गीय बने शोले के दस्यू सरदार गब्बर सिंह”

“कमलनाथ सरकार के प्रशासन में जय-वीरू भी हैं जिन्होंने अनेक गब्बर सिंह को ठिकाने लगाया हैं”

भाजपा में कौन है कालिया..?

सिंगरोली की एक सभा में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय अधिकारियों को धमकाते हुए बोल रहे हैं की भाजपा सरकार कभी आयी तो “तेरा क्या होगा कालिया “

म.प्र. कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने ने करारा तंज कसते हुए कहा हैं की यह डॉयलॉग शोले फ़िल्म का हैं जिसमें शोले फ़िल्म का विलेन डाकू गब्बर सिंह अपने साथी डाकू से बोलता हैं।

निश्चित तौर पर राष्ट्रीय महासचिव शोले के डाकू गब्बर सिंह बनकर इन्दौर को आग लगाने की धमकी भी दे गये हैं।वो ये भूल रहे हैं की सरकारी अधिकारी नियम और क़ानून के मुताबिक़ ही कार्य करते हैं।इन प्रशासनिक अधिकारियों में जय-वीरू भी हैं जिन्होंने बहुत से गब्बर सिंह को ठिकाने लगा दिया हैं।प्रशासनिक अधिकारी भाजपा के कार्यकर्ता नहीं हैं जो गब्बर सिंह से डर जाये।अच्छे अच्छे गब्बर सिंह और उनके साथियों की छक्के छुड़ाने की क्षमता कमलनाथ सरकार के प्रशासनिक अधिकारियों में हैं।

इस तरह की फ़िल्मी बयानबाज़ी करके गब्बर सिंह अपनी गैंग का मनोबल बढ़ाने की नाकामयाब कोशिश कर रहे हैं जो यह सिद्ध करता हैं की माफिया और भाजपा के नेताओं का सीधा कनेक्शन हैं।

सवाल यह भी हैं की दस्यु सरदार  गब्बर सिंह बने राष्ट्रीय महासचिव की गैंग में कालिया कौन हैं...? क्या ये इशारा शिवराज की तरफ़ हैं या प्रतिपक्ष नेता गोपाल भार्गव की तरफ़ या नरोत्तम मिश्रा की तरफ़ हैं की तेरा क्या होगा कालिया..!

क्योंकि कालिया तो गब्बर सिंह का ही साथी था।अब इनमें से भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव का कालिया कौन हैं ये तो गब्बर सिंह ही बताएँगे । भाजपा को माफ़ी मॉंगना चाहिए राष्ट्रीय महासचिव ने शोले के डाकू गब्बर सिंह बनकर प्रशासन को धमकाने की कोशिश की हैं।ये एक  गंभीर अपराधिक कृत्य हैं। कॉंग्रेस,भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के डाकू गब्बर सिंह बनने की कड़ी निंदा करती हैं।

राकेश सिंह यादव
प्रदेशसचिव
म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी
भोपाल
Share To:

Post A Comment: