आपका सरपंच कैसा हो आओ जानें लेखकअब्दुल कादिर खान से आपका प्रधानमंत्री आपका प्रधान (सरपंच)है।


सरपंच ऐसा चुनना जो तुम्हारे हक के लिए तुम्हारे साथ खड़ा हो करप्शन करके मुंह ना छुपाए

 आपका सदन आपकी पंचायत है। 

सरपंच आपकी आवाज है।

 चुनने के पहले जरूर सोचें ये बातें👇🏻

सरपंच समाजसेवी हो पैसा कमाना नहीं सेवा करना उसका लक्ष्य हो 

सरपंच आपकी आवाज है 

सरपंच आपका विकास तय करता है ।

सरपंच आपकी समस्याओं को उजागर करता ह

सरपंच आपके हक़ के लिए लड़ता है।

सरपंच हर व्यक्ति हर घर और हर व्यक्ति के आर्थिक सामाजिक नेतृत्व को जानने वाला होता है। सरपंच ग्राम पंचायत का मुखिया होता है ।

सरपंच आपका नेतृत्व करता है। सरपंच ग्राम पंचायत में आने वाले प्रत्येक गांव के हर हर व्यक्ति की समस्याओं आवश्यकता की आवाज उठाता है।

सरपंच अगर अच्छा है और बेहतर नेतृत्व कर रहा है तो विकास संभव है।

सरपंच के गलत नेतृत्व से आप का विकास रुक सकता है।

आपकी आवाज आपका विकास आप का समृद्ध होना आपका और आपके ग्राम पंचायत का विकासशील होना सरपंच के नेतृत्व पर निर्भर करता है ।

इसलिए सरपंच का शिक्षित होना सरपंच का ईमानदार होना सरपंच का आम जनमानस से जुड़ाव होना ग्राम के प्रत्येक व्यक्ति से सीधा सरोकार होना और आपकी आवाज को हर संभव शासन प्रशासन तक पहुंचाने का साहस रखने वाला होना आवश्यक है। आपकी एक भूल आपके ग्राम के विकास को रोक सकती है। आपका विकास आपकी पंचायत तय करती है।

इसलिए इस चुनाव में अपना प्रतिनिधि चुनने से पहले आपको निर्णय लेना होगा कि आपका प्रतिनिधि का व्यक्तित्व कैसा है। क्योंकि आप अपने ग्राम पंचायत के ग्रामों को एक प्रतिनिधि नहीं बल्कि अपना नायब अपना पत्र वाहक अपनी आवाज बना रहे हैं। सरपंच ही ताकत है इसके साथ प्रत्येक वार्डो में वार्ड मेंबर भी साक्षर शिक्षित इमानदार हों ताकि सरपंच के गलत कार्यों की आलोचना कर उसे बाहर का रास्ता दिखा सकें

अक्सर देखा जाता है कि पंचायत सरपंच द्वारा करप्शन किया जाता है और पंच उसके साथ मिले होते हैं।

और उसकी आवाज नहीं उठाते इसलिए योग्य और साक्षर पंच चुनें ताकि सरपंच के गलत कार्यों की आलोचना करते हुए उसे रोकने का प्रयास कर सकें आपका नेतृत्व आपका सरपंच करेगा और करता है ।

आपका फैसला पछतावा ना बने बल के विकास को नया आयाम दे

जनप्रतिनिधि ऐसा चुनना जो तुम्हारी आवाज से आवाज मिलाएं तुम्हारी आवश्यकताओं को तरजीह दे


लेखक
अब्दुल कादिर खान 
कलयुग की कलम 

Share To:

Post A Comment: