जंगल मे जिसने किया पेडों की कटाई उसी ने कर दिया सीएम हेल्पलाइन में झूठी शिकायत

जांच पर पहुँचे अधिकारी कर्मचारियों को डराते धमकाते अपराध किया कबुल, वन विभाग ने पुलिस में दर्ज कराई एफआईआर

ढीमरखेड़ा वन परिक्षेत्र के भीतरीगढ़ का मामला,फरार है आरोपी

कलयुग की कलम (अंकित झारिया) 

 उमरियापान:- जंगल मे पेड़ों की कटाई करने का अपराध करने के बाद सीएम हेल्पलाइन नंबर पर झूठी शिकायत करने और जांच में पहुँचे अधिकारी कर्मचारियों को डराते धमकाते हुए झूठे मामले पर फसाने का मामला सामने आया है। वन विभाग के  अधिकारियों ने मामले पर दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए स्लीमनाबाद पुलिस थाना में एफआईआर भी दर्ज कराई है। घटना को अंजाम देने वाले दोनों आरोपी फरार है। मामला ढीमरखेड़ा वन परिक्षेत्र के भितरीगढ़ का है।

वन परिक्षेत्र अधिकारी डॉ गौरव सक्सेना ने बताया कि ढीमरखेड़ा वन परिक्षेत्र के भितरीगढ़ के जंगल में पेड़ों की कटाई होने की सूचना 23 जनवरी को मुखबिर से मिली। सूचना पर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुँचे तो जंगल में पेड़ काटते हुए माथुर  सिंह पिता बट्टी सिंह और संतोष पिता अकबर सिंह मिले,लेकिन अधिकारियों को देखते हुए दोनों मौके पर भाग निकले। दूसरे दिन 24 जनवरी को वन विभाग के अधिकारियों द्वारा वनों की कटाई कराये जाने की शिकायत सैलारपुर के गोलू जी नामक व्यक्ति द्वारा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर पर किया गया।  शिकायत का निराकरण करने वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुँचे तो कक्ष क्रमांक पीएफ 289 के जंगल में पेड़ की कटाई होना तो मिला। वन विभाग के अधिकारियों ने सैलारपुर शिकायतकर्ता के गांव पहुँचकर मिले तो गोलू ने कहा कि न तो मैंने यह शिकायत किया है न ही यह मेरा मोबाइल नंबर है।वन विभाग के अधिकारियों ने मोबाइल नंबर की जांच कराई। जिसके बाद खुलासा हुआ कि जिस मोबाइल नम्बर से शिकायत की गई थी,वह सिम जंगल मे पेड़ों को काटते हुए वनकर्मियों को देखकर भागने वाले माथुर सिंह पिता बट्टी सिंह के नाम निकली। तलासी के लिए वन विभाग के अधिकारी गांव पहुँचे तो माथुर सिंह और संतोष सिंह ने गांव में बल को इकट्ठा करने के बाद वन विभाग के अधिकारियों को डराते धमकाते हुए कबूल किया है कि वनों की कटाई हमने किया है और दूसरों से कराया है। हमने ही झूठी शिकायत दर्ज कराया। हम लोग वन विभाग के अधिकारियों को फंसा देंगे। जिसके बाद वन विभाग के अधिकारियों ने माथुर सिंह और बट्टी सिंह  के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया है। साथ ही स्लीमनाबाद थाना पहुँचकर दोनों के खिलाफ सीएम हेल्पलाइन का दुरुपयोग करने,झूठी शिकायत करने,लोक संपत्ति को नष्ट करने, शासकीय लोकसेवकों के संबंध में षड्यंत्र रचने,शासकीय कार्य में बाधा पहुचाने,शासकीय सेवकों को उक्त क्षेत्र में कार्य करने से रोकने और धमकाने संबंधित मामलों पर एफआईआर दर्ज कराया है।

इनका कहना है:- जंगल की कटाई करने के बाद झूठी शिकायत करने वाले दोनों लोग फरार है।तलाश जारी है। पेड़ों की कटाई के मामले में अन्य लोगों के शामिल होने शंका है।आरोपी पकड़े जाने पर इसका खुलासा किया जाएगा।:- डॉ गौरव सक्सेना, रेंजर ढीमरखेड़ा

Share To:

Post A Comment: