मंडलायुक्त की मंडली समीक्षा बैठक राजस्व संग्रह में तेजी लाने के लिए निर्देश

KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
        प्रयागराज
विकास कुमार पटेल

मण्डलायुक्त की अध्यक्षता में मण्डलीय समीक्षा बैठक सम्पन्न

राजस्व संग्रह में लक्ष्य के अनुरूप धीमी प्रगति पर मण्डलायुक्त ने असंतोष व्यक्त करते हुए राजस्व में वृद्धि करने के दिए निर्देश

गौशालाओं के निर्माण के लम्बित कार्य समय से कराये पूरा

मण्डलायुक्त, प्रयागराज मण्डल

मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले का व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार कराकर अधिक से अधिक लोगों को करें लाभान्वित

स्वास्थ्य केन्द्रों पर बिना किसी सूचना के अनुपस्थित चल रहे चिकित्सकों के खिलाफ करें कड़ी कार्यवाही-मण्डलायुक्त, 

13 फरवरी, 2020 प्रयागराज

मण्डलायुक्त डाॅ0 आशीष कुमार गोयल ने गांधी सभागार में मण्डलीय अधिकारियों के साथ के सभी जिलों के विकास कार्यों की विस्तृत समीक्षा बैठक की। बैठक में मण्डलायुक्त ने विकास प्राथमिकताओं, राजस्व, आईजीआरएस, चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, पंचायती राज, ग्राम्य विकास, बेसिक शिक्षा, विद्युत विभाग, कृषि, स्वच्छ भारत मिशन आदि योजनाओं के साथ गौवंश आश्रय स्थल, प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान भारत, कन्या सुमंगला योजना, प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना, सालिड एवं लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट, एम्बुलेंस सेवाओं की स्थिति, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना तथा अन्य योजनाओं की प्रगति की बिन्दुवार समीक्षा की। बैठक में जिलाधिकारी कौशाम्बी के साथ सभी जनपदों के मुख्य विकास अधिकारी तथा मण्डलीय अधिकारियों सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

 राजस्व संग्रह कार्य में लक्ष्य के अनुरूप धीमी प्रगति पर मण्डलायुक्त ने असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि विद्युत, आबकारी, परिवहन, स्टाॅम्प वं रजिस्ट्रेशन तथा नगर निकाय आदि विभाग नियमानुसार लक्ष्य के सापेक्ष उपलब्धि सुनिश्चित करें। परिवहन में लक्ष्य के सापेक्ष कम वसूली पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को प्रमुख सचिव परिवहन को वर्तमान स्थिति से अवगत कराते हुए रेवून्यू बढ़ाने की दिशा में ठोस कदम बढ़ाने के निर्देश दिए। विद्युत विभाग की समीक्षा करते हुए उन्होंने प्रतापगढ़ में रेवेन्यू कम पाये जाने पर सम्बन्धित अधिकारियों को कहा कि आर0सी जारी कर वसूली के लक्ष्य को पूरा करें। बैठक में उपस्थित विद्युत विभाग के अधिकारी ने बताया रेवेन्यू बढ़ाने के लिए लगातार कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने नगर निगम के अधिकारियों को भी वसूली की स्थिति सुधारने के निर्देश दिए।

 गो संरक्षण केन्द्र के निर्माण सम्बन्धी कार्यों की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे सम्बन्धित निर्माण कार्य समय से पूरा कर लिए जाये। जहां भी निर्माण कार्य की प्रगति धीमी है वहां के मुख्य विकास अधिकारी स्वयं कार्य की समीक्षा करें एवं जल्द से जल्द निर्माण कार्य को पूरा करायें। जहां तक सम्भव हो गर्मी से पहले जानवरों के लिए टीन शेड का निर्माण कार्य करा लिया जाये, जिससे जानवरों के लिए छाया की व्यवस्था रहे। माध्यमिक शिक्षा परिषद की आगामी बोर्ड परीक्षाओं की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि कंट्रोल रूम जो बनाये गये है, उसमें सिफ्ट वाइस अधिकारियों की ड्यूटी लगाये, जिससे काम का ज्यादा दबाव न पड़े। सचल दस्ते कंट्रोल रूम से दी गयी जानकारी के आधार पर संचालित होंगे। उन्होंने कहां कि शासन की मंशा के अनुरून नकल विहीन परीक्षा का आयोजन कराना हमारी जिम्मेदारी है।

मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले की समीक्षा करते हुए उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों से इस योजना का व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार कराने के निर्देश दिए ताकि अधिक से अधिक लोग स्वास्थ्य मेले में आकर अपनी बीमारियों का जांच व इलाज करा सके। प्रचार-प्रसार इस तरह से होना चाहिए ज्यादा से ज्यादा लोगो मालूम होना चाहिए कि आरोग्य मेले में किन-किन बीमारियों की जांच व इलाज कराया जा सकता है। ग्राम पंचायतों में शेष रह गयी धनराशियों का उपयोग के लिए सभी मुख्य विकास अधिकारियों को कार्ययोजना तैयार कर उन्हें इससे अवगत कराने को कहां, जिससे सम्बन्धित क्षेत्रों से जुड़े अन्य विकास के कार्य कराये जा सके। स्वास्थ्य विभाग के कार्योें की समीक्षा करते हुए मण्डलायुक्त ने आयुष्मान योजना की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को विशेष अभियान चलाकर ज्यादा से ज्यादा लोगो को योजना लाभ पहुंचाने के निर्देश दिए साथ ही लाभान्वित लोगो को गोल्डेन कार्ड वितरित करने को कहा। मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की प्रगति की जानकारी लेते हुए आशा, आंगनबाड़ी, शिक्षिकाओं द्वारा लोगो को जागरूक करने का कार्य किया जाय। इस योजना के बारे मेें लोगो में जानकारी के अभाव होने के कारण वे इस योजना का लाभ नहीं ले पा रहे है। उन्होंने सुझाव दिया कि पम्पलेंट छपवाकर लोगो में वितरित कराया जाये। पम्पलेंट में जिम्मेदार अधिकारियों के फोन नम्बरों के साथ ही योजना के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। मण्डलायुक्त ने आशाओं की कार्य शैली व उनके किये हुए कार्यों के परिणामों की समीक्षा करते हुए कहा कि आशाओं को कार्य क्षेत्र में नियमित निकलकर टीकाकरण, जननी सुरक्षा तथा प्रसव के दौरान दी जाने वाली सुविधाओं का व्यापक स्तर पर जनता की भलाई के लिए कार्यरत रहना चाहिए। इसके लिए संबंधित अधिकारी नियमित समीक्षा भी करें। स्वास्थ्य केन्द्रों में चिकित्सकों की उपस्थिति के बारे में जानकारी लेते हुए कहा कि स्वास्थ्य केन्द्रों पर बिना किसी सूचना के अनुपस्थित चल रहे चिकित्सकों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाये। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की उपस्थिति को कंफर्म करने के लिए वाट्सएप के माध्यम से अपनी उपस्थिति मुख्य विकास अधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधिकारी को भेज कर दर्ज करायें। एम्बुलेंस सेवाओं की समीक्षा करते हुए मण्डलायुक्त ने सभी सम्बन्धित अधिकारियों को कहां कि एम्बुलेंस का औचक निरीक्षण कर यह देखे की एम्बुलेंस में उपलब्ध उपकरण क्रियाशील स्थिति में है या नहीं। इसके साथ ही यह सुनिश्चित कर लें कि एम्बुलेंस में निर्धारित दवाईयों की उपलब्धता है या नहीं। टीकाकरण की समीक्षा करते हुए कहां कि जिन जिलों में जो परिवार टीकाकरण में रूचि नहीं ले रहे या अज्ञानतावश टीकाकरण नहीं करा रहे है, उन्हें चिन्हित कर उसकी पूरी रिपोर्ट भेजी जाय और मण्डल में जिस जिले से रिपोर्ट नहीं भेजी जा रही है, इस कार्य में लगे हुए अधिकारी कर्मचारियों केे खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारी को दिए। मण्डलायुक्त ने छात्रवृत्ति योजना, सामूहिक विवाह योजना, पेंशन योजना की समीक्षा करते हुए कहां कि दिव्यांग पेंशन का लाभ शत-प्रतिशत लोगो को मिलना चाहिए। कोई भी पात्र व्यक्ति पेंशन के लाभ से वंचित न रह जाये, इसका विशेष ध्यान रखा जाये। साथ ही जिला विकलांग कल्याण अधिकारी द्वारा सही आंकड़े न दे पाने पर मण्डल के सभी सम्बन्धित अधिकारियों को फटकार लगायी। बेसिक शिक्षा अधिकारी से स्कूलों में निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों, यूनिफार्म, बैग जूता-मोजा के वितरण के बारे में जानकारी ली। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिए कि समय से समय से इनका वितरण सुनिश्चित कर लिया जाये।


Share To:

Post A Comment: