राजस्व अधिकारियों की बैठक में बोले कलेक्टर, जिले में किसी भी प्रकार के रेत परिवहन, उत्खनन पर रहेगी रोक

कलयुग की कलम ग्रामीण रिपोर्टर कटनी  

राज्य शासन के निर्देशानुसार खनिज विभाग द्वारा 5 से 20 फरवरी तक अवैध रुप से रेत के उत्खनन, परिवहन, भण्डारण पर रोक लगाने पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इस दौरान जिले में पंचायतों द्वारा संचलित की जा रही रेत खदान सहित सभी 18 रेत खदाने बंद रहेंगी। कटनी जिले में वर्तमान में कोई भी खदान संचालित नहीं है, इसलिये रेत के परिवहन, उत्खनन, भण्डारण पर सख्ती से रोक रहेगी। इस आशय की जानकारी कलेक्टर शशिभूषण सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न राजस्व अधिकारियों की बैठक में दी गई। इस मौके पर अपर कलेक्टर जयेन्द्र कुमार विजयवत, एसडीएम रोहित सिसोनिया, बलबीर रमन, सपना त्रिपाठी, प्रिया चन्द्रावत, खनिज अधिकारी संतोष सिंह, तहसीलदार मुनौव्वर खान, संदीप श्रीवास्तव, महेन्द्र पटैल, क्षमा सराफ सहित सभी तहसीलदार, नायब तहसीलदार उपस्थित थे।

राजस्व और खनिज अधिकारियों की संयुक्त बैठक में जिला खनि अधिकारी ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार पंचायतों द्वारा संचालित सभी चालू रेत खदानें 3 दिन पहले बंद की जा चुकी है। जिले की 10 रेत खदाने और 8 नई खदाने मिलाकर सभी 18 रेत खदानों में रेत का उत्खनन, परिवहन पूर्णतः बंद है। जिले में रेत खदानों के निविदाकार द्वारा आवश्यक औपचारिकतायें पूर्ण कर इन खदानों में काम शुरु किया जायेगा। इस दौरान जिले की खदानों से रेत का खनन, परिवहन, भण्डारण निसिद्ध रहेगा। राज्य शासन के निर्देशानुसार अवैध रेत के परिवहन, खनन, भण्डारण को रोकने 20 फरवरी तक पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इस दौरान प्रतिदिन की कार्यवाही की रिपोर्टिंग शासन को की जायेगी।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले में अवैध रेत के उत्खनन, परिवहन, भण्डारण की कार्यवाही की रोकथाम के लिये एसडीएम के निर्देशन में राजस्व, पुलिस, वन, खनिज विभाग के अधिकारियों की टीमें पूर्व में बनाई गई है। सभी टीमें सक्रियता और सतर्कता पूर्वक जहां भी शिकायतें प्राप्त हों, सख्ती से कार्यवाही करें। बरही, विजयराघवगढ़ और बड़वारा तहसील एैसे क्षेत्र हैं, जहां जिले में रेत की खदानें और उपलब्धता ज्यादा है। इन तहसीलों के प्रभार वाले खनिज निरीक्षक अपने मुख्यालय में ही निवास करें और तत्परता से दलों के साथ कार्यवाही करायें। पखवाड़ा के दौरान की गई कार्यवाही की रिपोर्टिंग भी करें।

राजस्व अधिकारियों की बैठक में आरसीएमएस पोर्टल पर दर्ज राजस्व प्रकरणों के निराकरण की तहसीलवार और कोर्टवार समीक्षा की गई। बताया गया कि वर्ष में अब तक 52882 राजस्व प्रकरण दर्ज किये गये हैं। जिनमें 43143 प्रकरणों का निराकरण किया गया है। विगत माह में 9699 राजस्व प्रकरण दर्ज हुये हैं, जबकि 9091 प्रकरणों का निराकरण किया गया है। आरएमएसएस पोर्टल पर दर्ज निराकरण का सबसे अच्छा प्रतिशत तहसीलदार कटनी संदीप श्रीवास्तव का होने पर उनके परफॉर्मेन्स के लिये बधाई दी गई। बताया गया कि आरसीएमएस पर दर्ज नामांतरण के प्रकरणों का 79 प्रतिशत, सीमांकन में 77 प्रतिशत, बटवारा में 72 प्रतिशत प्रकरणों का निराकरण हुआ है। राजस्व वसूली की समीक्षा करते हुये कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि राजस्व, डायवर्सन और अर्थदण्डकी वसूली मांग अनुसार करते हुये राजस्व वसूली के लक्ष्यपूर्ति पर विशेष जोर दिया जाये। उन्होने बरही, नजूल और पुर्नवास की कम वसूली पर कहा कि बकायादारों को नोटिस और इश्तहार प्रकाशन के जरिये राजस्व जमा कराने सूचित करें। सीएम हेल्पलाईन के प्रकरणों की समीक्षा में संतुष्टिपूर्ण निराकरण में तहसीलदार राजेश पाण्डे द्वारा 60 प्रतिशत, तहसीलदार सच्चिदानंद त्रिपाठी, विजय द्विवेदी, क्षमा सराफ द्वारा सीएम हेल्पलाईन में 50 प्रतिशत से अधिक प्रकरणों का संतुष्टिपूर्ण निराकरण करने पर बधाई दी गई।

Share To:

Post A Comment: