सांसद ने कलेक्टर से बात कर उचित व्यवस्था कराने दिए निर्देश,कलेक्टर ने बस का प्रबंध कर युवाओं को भेजा घर,समाजसेवीओं ने कराया भोजन

कलयुग की कलम अंकित झारिया

उमरियापान:- कोरोना वायरस के बाद हुए लॉकडाउन से लोगों की परेशानियां बढ़ गई हैं। उन लोगों की मुश्किलें और बढ़ गई हैं जो लोग अपना गांव-घर छोड़कर दूसरे शहरों में प्रवास पर हैं। लॉकडाउन के कारण ऐसे लोगों के रोजगार पर ताला लग गया है। ऐसी स्थिति में उन्हें अपने घर लौटने के अलावा कोई चारा नहीं है। लेकिन इसमें परेशानी ये है कि लोग अपने गांव लौटें कैसे क्योंकि यातायात के सभी साधन ठप हैं।

रविवार को जबलपुर से करीब 3 दर्जन से अधिक युवा उमरियापान  पहुँचे। भूखे प्यासे होने के कारण सभी युवा वही पर रुक गए।जिन्हें देखकर ग्रामीणों ने उनको कोरोना से संदिग्ध समझते हुए उमरियापान को जानकारी दिया। वहीं जानकारी लगते ही मौके पर समाजसेवी राजेश चौरसिया,सिद्धार्थ दीक्षित,एके झारिया सहित अन्य लोगों ने पहुँचकर सभी युवाओं को उमरियापान अस्पताल परिसर में रोककर सभी को सोशल डिस्टेन्स में बैठाया। सभी को भोजन पानी की व्यवस्था कराई। जिला उपाध्यक्ष राजेश चौरसिया ने क्षेत्रीय सांसद हिमान्द्री सिंह को इससे अवगत कराया। जिसके बाद सांसद ने कलेक्टर एसबी सिंह से बातचीत करते हुए युवाओं को उनके गंतव्य स्थान तक पहुचाने की बात कही। कलेक्टर के निर्देश पर शाम करीब साढ़े पांच बजे प्रभारी तहसीलदार व नायब तहसीलदार हरिसिंह धुर्वे,थाना प्रभारी गोविंद सुरैया सहित पुलिस बल बस लेकर पहुँचा।प्रशासन ने जिला उपाध्यक्ष राजेश चौरसिया,पूर्व मंडल अध्यक्ष विजय दुबे, सिद्धार्थ दीक्षित,संदीप सोनी सहित अन्य लोगों की उपस्थिति में सभी युवाओं को बस से व्योहारी के लिए रवाना किया है।पूछताछ में युवाओं ने समाजसेवीओं को बताया कि सभी लोग अनूपपुर जिले के व्योहारी के रहने वाले हैं। जो कि जबलपुर के भेड़ाघाट में काम करते थे। रविवार को जब व्योहारी जाने निकले तो पुलिस ने जबलपुर से उमरिया जाने के लिए एक ट्रक की व्यवस्था किया। लेकिन ट्रक वाले ने सभी युवाओं को उमरियापान में ही छोड़कर फरार हो गया। इसके अलावा ट्रक चालक ने युवाओं से 2 हजार रुपये भी ले लिया।



Share To:

Post A Comment: