कोरोना  देशबंदी से कम भुखमरी से ज्यादा मौत का खतरा.. शिव सिंह

====================

विदेश से लाए गए नागरिकों से ज्यादा खराब हुए हालात

====================

मध्यप्रदेश में लाठी डंडा के अलावा रोटी के कोई उपाय नहीं

====================

25 मार्च 2020== जनता दल  सेक्युलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने कहा कि कोरोना देशबंदी के चलते देश के नागरिकों के ऊपर अन्य संकट तैयार हो चुके हैं देश की 60 फ़ीसदी आबादी जो मजदूरी करके जिसमें   शासकीय एवं प्राइवेट कंपनी के मजदूर तथा खेतिहर मजदूर रिक्शा चालक ठेला चालक  रेहड़ी मजदूर रेल पटरी मजदूर कंट्रक्शन मजदूर आदि शामिल है उनका कहना है कि  मोदी सरकार ने बिना किसी तैयारी के देशबंदी कर दिया उनके बच्चे भूख से मर रहे हैं उनके पास दो वक्त की रोटी का संकट खड़ा हो गया है जो रोज कमाते खाते थे उनके पास कोई बचत नहीं है उनका यह भी कहना है कि 31 मार्च तक यदि यही हाल रहा तो वह भूख से मर जाएंगे मजदूरों का कहना है कि सरकार ने यह घोषणा किया कि लोग अपने घरों में कैद रहे किसी को किसी प्रकार की समस्या नहीं होगी लेकिन सरकार ने अभी तक कोई भी   खाद्य एवं जरूरी सामग्री नहीं पहुंचाई जिससे रोज कमाने खाने वाला गरीब मजदूर दहशत में कैद है आज पूरे देश में विगत 2 माह से ओला बारिश आपदा के चलते किसान की खड़ी फसलें तबाह हो गई थी जो कुछ फसल बची है उसको काटने व गहाई का समय है ऐसे में किसान मजदूर घरों में कैद है उनकी  बची फसलों को सरेआम एरा जानवर तबाह कर रहे हैं ऐसे में किसान भी आत्महत्या के मुहाने पर पहुंच चुका है सरकार इस मामले में भी चिंतित नहीं है और ना ही कोई गाइडलाइन जारी किया ऐसा लगता है कि सरकार की गलत नीतियों के चलते आज देश 100 साल पीछे कर दिया गया  और विकास का पैसा सांसद विधायक खरीदने में हवाई यात्रा में चुनाव रैलियों में मंदिर मूर्तियों में विदेशियों के स्वागत में खर्च कर दिया गया लेकिन देश  की स्वास्थ्य सुविधाओं शिक्षा रोजगार जल संरक्षण पर्यावरण पर ध्यान नहीं दिया गया जिसका खामियाजा आज देश भुगत रहा है श्री सिंह ने आगे कहा कि मोदी सरकार को चीन में फैले कोरोना संक्रमण के समय से ही यह ज्ञात हो गया था कि इसका प्रकोप ज्यादा बढ़ेगा उसी समय जो भारत के नागरिक चीन अमेरिका ईरान इराक इटली अन्य देशों में काफी संख्या में रह रहे थे उनको वही रोक देना था उनकी व्यवस्था यहीं से करना था उनको घर में रहने की सलाह उसी समय दे देना था और यदि कोई पीड़ित था तो उसको वही आइसोलेट करा देना था लेकिन ऐसा नहीं किया गया लगातार विदेश से देश के नागरिक आते रहे जिसके कारण आज देश में ज्यादा खतरा उत्पन्न हो गया इतना होने के बावजूद भी भारत सरकार ने आज दिनांक 25 मार्च को देश के 273 नागरिकों को ईरान से जोधपुर शासकीय खर्चे से लाने का काम किया जबकि प्रधानमंत्री जी को यह मालूम है कि सिर की स्क्रीनिंग मात्र से नहीं इसके वायरस 12 दिन बाद तक भी सक्रिय होते हैं ऐसे में देश के सामने एक बड़ा संकट सरकार ने अपने  हाथ से स्वयं खड़ा कर दिया है जो बेहद चिंताजनक है श्री सिंह ने यह भी कहा कि जब समूचा देश लाकडाउन था उसी समय भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर मध्यप्रदेश में सत्ता की कुर्सी हथियाने का काम चल रहा था जिसके  चलते लाकडाउन एवं धारा 144 का उल्लंघन करते हुए हजारों की संख्या में राज्यपाल नेता मंत्री विधायक राजभवन में सीएम शिवराज सिंह को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिला दिए इसके पूर्व प्रदेश के सभी विधायक खरीद-फरोख्त कांड के तहत कई प्रदेशों में रुके रहे जब वह वापस आए तो उनकी कोई भी कोरोना जांच नहीं कराई गई जबकि सभी की जांच कराई जा कर उनकी मेडिकल रिपोर्ट सार्वजनिक करना था क्योंकि हवाई  यात्रियों पर इस वायरस का प्रकोप ज्यादा देखने को मिला है जिसके चलते मध्यप्रदेश में भी कई पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं प्रदेश को बचाना है तो अभी भी इन विधायकों के टेस्ट बहुत अनिवार्य है श्री सिंह ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद सीएम शिवराज सिंह ने जनता से अपील करते हुए कहा कि आप कोई चिंता ना करें आपको सभी रोजमर्रा की वस्तुएं घरों में उपलब्ध कराई जाएंगी तथा गरीब तबके के लोगों को एक वक्त की रोटी की व्यवस्था कराई जाएगी लेकिन अभी तक प्रदेश के अंदर समूची आबादी घरों में कैद है उनको खाद्य सामग्री नहीं मिल पा रही है लोग भूखे मर रहे हैं गरीब बिना रोटी के दम तोड़ रहा है यदि वह रोटी की तलाश में बाहर निकलता है तो पुलिस लाठियां मार रही हैं कोई टोल फ्री नंबर तक चालू नहीं किए गए जिससे लोग फोन के माध्यम से रोजमर्रा की सुविधाएं प्राप्त कर सकें ऐसे में प्रदेश के हालात व्यापक स्तर पर खराब हो चुके हैं सरकार ऐसे अहम सवालों पर तत्काल चिंतन मंथन कर निराकरण करें  

                  शिव सिंह एडवोकेट

Share To:

Post A Comment: