पोल्ट्री फार्मिंग करने वाले फॉर्मर को मिले मुआवजा गांव देहात में बने पोल्ट्री फॉर्म में मुर्गी पालन कर रहे फॉर्मर परेशान है इसके लिए सरकार को चाहिए कि इनके लिए उचित मुआवजा का प्रावधान करें

आज भाजपा जिला उपाध्यक्ष अब्दुल कादिर खान ने पोल्ट्री फार्मिंग कर रहे आदिवासियों से मुलाकात कर स्थिति का जायजा लिया

कटनी जिले के जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा क्षेत्र में गरीब आदिवासियों के घरों में पोल्ट्री फार्म बनाए गए थे जिसमें पोल्ट्री फार्म मुर्गे पाले गए थे जिस पर आज भी मुर्गे हैं।

जिसके पालन करता बुरी तरह नुकसान का सामना कर रहे हैं पोल्ट्री फार्म मैं पले चूजों की रेख देख और दाना पानी की व्यवस्था में अपना सब कुछ लगा चुके फार्मर रोते नजर आ रहे हैं ।

उन्हें नष्ट भी कैसेकर दें उनके पालने में जो खर्च हुआ है वह खर्च भी नहीं निकल रहा है ।

₹5 ₹6 में बेचने को मजबूर हैं और कोरोनावायरस के डर के कारण लोग फ्री में लेने को तैयार नहीं है ।

ऐसी स्थिति में प्रशासन को चाहिए कि उनकी नुकसान की भरपाई के लिए मुआवजा का प्रावधान करें

ग्राम पंचायत कोठी निवासी विजय सिंह अपनी स्थिति से अवगत कराया वीडियो में प्रत्यक्ष दिख रहा है कि किस कदर पोल्ट्री फार्म फार्मिंग कर रहे लोगों में निराशा है इसके लिए अति शीघ्र सरकार को मुआवजे का ऐलान करना चाहिए

जबकि सरकार में एडवाइजरी जारी की है कि चिकन मटन मछली से कोरोनावायरस नहीं फेलता है।




Share To:

Post A Comment: