ढीमरखेड़ा में कोरोना के दर्जन भर संदिग्धों के होने का मचा हड़कंप

एसडीएम ने मामले की लिया संज्ञान, बीएमओ ने ढीमरखेड़ा से जिला अस्पताल के लिए सभी को भेजा

कलयुग की कलम (अंकित झारिया)

 ढीमरखेड़ा:- ढीमरखेड़ा तहसील क्षेत्र में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के होने की जानकारी जैसे ही लगी पूरे क्षेत्र में अफरा तफरी का माहौल निर्मित हो गया है। सोशल मीडिया से लेकर प्रशासनिक अफसरों में हड़कंप मच गया। आनन फानन प्रशासन ने उक्त लोगों को एम्बुलेंस की सहायता से ढीमरखेड़ा अस्पताल पहुँचाया। जिसके बाद सभी को जिला अस्पताल के लिए भेजा गया है।  जानकारी के अनुसार ढीमरखेड़ा तहसील क्षेत्र के करीब दर्जन भर लोग महाराष्ट्र, गुजरात, केरला सहित अन्य राज्यों से काम करके वापस लौटे थे।  जिनमें से कुछ लोगों को सर्दी,खांसी जुखाम,कोरोना वायरस जैसे बीमारी होने की जानकारी लगी। जिसकी खबर सोशल मीडिया में भी खूब चली।  जानकारी मिलते ही ढीमरखेड़ा एसडीएम सपना त्रिपाठी ने इसको गंभीरता से लिया।सभी को एम्बुलेंस वाहन से ढीमरखेड़ा अस्पताल लाया गया। स्वास्थ्य विभाग को मामले की जानकारी देकर पीड़ितों का उपचार करने कहा। बीएमओ डॉ राजेश केवट सहित स्वास्थ्य विभाग का अमला ढीमरखेड़ा स्वास्थ्य केन्द्र पहुँचकर सभी संदिग्धों का प्राथमिक उपचार कर सभी जिला अस्पताल के लिए भेज दिया है। अब इनकी जांच जिला अस्पताल में होगी। हालांकि ढीमरखेड़ा क्षेत्र में बाहर राज्यों से काम कर वापस लौटे लोग एम्बुलेंस में बैठने के लिए मना कर रहे थे।अपनी जांच कराने में आनाकानी भी करने लगे। जिसके लिए ढीमरखेड़ा पुलिस का भी सहारा लेना पड़ा। बाद में लोग अस्पताल तक पहुँचे। 

ये थे संदिग्ध,जिन्हें भेजा गया जिला अस्पताल:- ढीमरखेड़ा के सगौना निवासी देवीदीन सिंह,संदीप सिंह, अनुज सिंह,पवन सिंह,उमेश सिंह,रोझन निवासी रामभरोसे सिंह,पटना निवासी संतोष सिंह, होशियार सिंह,कचनारी निवासी दिनेश सिंह, सुरेंद्र गोंड सहित सिवनी निवासी जुगल गौंड सहित अन्य लोग बाहरी राज्यों से वापस लौट कर आये हैं। जिन्हें ढीमरखेड़ा अस्पताल मुख्यालय से प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल के लिए भेजा गया है।


Share To:

Post A Comment: