मरकज निजामुद्दीन में चल रहे घटनाक्रम पर अब्दुल कादिर खान का बड़ा बयान कहा मीडिया की भूमिका सही नहीं तबलीगी जमात के लोग वहां छुपे नहीं रुके और अधिकारियों के आदेश पर फंसे  थे सरकार पहले मजदूरों के पलायन को रोके

मरकज़ निजामुद्दीन से सटा हुआ है पुलिस थाना हर गतिविधियों की जानकारी आई बी एलआईबी और पुलिस थाने को दी जाती है।

मरकज निजामुद्दीन में चल रहे घटनाक्रम पर कलयुग की कलम लेखक अब्दुल कादिर खान ने अपनी बात रखी जिस पर उन्होंने कहा कि मरकज़ निजामुद्दीन आलमी मरकज़ है।

जहां पर पूरी दुनिया से मुसलमान आते हैं और दीन की बात सीखते हैं।

मरकज़ निजामुद्दीन और तबलीगी जमात का किसी भी सियासी पार्टी या संगठन से कोई संबंध नहीं है।

इसके साथ मरकज़ निजामुद्दीन से पाए गए एक भी साथी में संक्रमण नहीं पाया गया

मीडिया अपनी भूमिका से भटक रही है ।

सही बात नहीं दिखा रही है कोरोना वायरस से बचने के लिए ही मरकज़ में बंद रहे इतने साथी कोई भी मुसलमान मरकज़ में छुपा नहीं था 

बल्कि फंसे हुए थे लॉक डाउन का पालन ही तो कर रहे थे 

तब तो अपने मूल्क वापस नहीं जा सके फ्लाइट भी बन्द हो गई  बहुत सी ज़माते मरकज़ निजामुद्दीन में रुकी रही 

25 तारीख को मरकज निजामुद्दीन से मौलाना यूसुफ ने पत्र भी लिखा था एसडीएम और एसएचओ को 

शासन द्वारा कोई भी व्यवस्था नहीं की गई थी उसके साथ 1000 आदमियों में सर्दी जुखाम और बुखार के ही पेशेंट ज्यादा पाए गए  देखिए पूरी रिपोर्ट



Share To:

Post A Comment: