देशवासियों को प्रदर्शनों के नाम पर आयेदिन चलने वाले "भीडतंत्र" के आतंक से मुक्ति कब

हस्तक्षेप / दीपक कुमार त्यागी

स्वंतत्र पत्रकार व स्तंभकार

दिल्ली हिंसा पर एक-दूसरे दल व राजनेता पर आरोप-प्रत्यारोप की संसद में जबरदस्त राजनीति जारी है, हालात देखकर लगता है कि सभी राजनैतिक दलों को केवल और केवल अपने वोटबैंक को साधने की चिंता है, किसी को भी इंसान, इंसानियत, समाज व देश की चिंता नहीं है, हिंसा के षडयंत्रकारियों व दोषियों पर सख्त कार्यवाही में हर दल का अपनी ढपली अपना राग चल रहा है। हर कोई अपने दल के बेतुके आग उगलने वाले बयानवीरों को बचाना चाह रहा है व दूसरे दल के नेताओं को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहरा कर उनको सजा दिलाने की मांग कर रहा है। कोई भी राजनैतिक दल अपने गिरेबान में झाकने के लिए तैयार नहीं है कि उसके चंद नेताओं ने लोगों से भड़काऊ बातें करके देश व समाज का कितना बड़ा नुकसान कर दिया है। अब भी सब केवल अपने क्षणिक राजनैतिक स्वार्थ को पूरा करने के लिए देश के अमनचैन व भाईचारे से खिलवाड़ करने से भी बाज नहीं आ रहे है।

इंसानों की लाशों के ढेर पर किस तरह कुछ राजनेताओं के द्वारा अपनी राजनैतिक रोटियां सेंकने का काम किया जाता है, दिल्ली हिंसा इसका हाल के वर्षों में सबसे शर्मनाक झकझोर देने वाला उदाहरण है।

कोई भी दल यह सोचने के लिए तैयार नहीं है कि देश में प्रदर्शन के नाम पर आयेदिन होने वाला "भीडतंत्र" का आतंक कब तक चलेगा, क्या देश की जनता को कभी इस आतंक के नये तरीक़े से मुक्ति मिल पायेगी या इसी तरह देश में धरना प्रदर्शनों के नाम पर कुछ देशद्रोही साजिशकर्ताओं के द्वारा आम लोगों को भड़का कर इंसान व इंसानियत का सरेआम कत्लोगारद किया जाता रहेगा।

भारत में हर जाति-धर्म, पंथ व मत के व्यक्ति को अभिव्यक्ति की पूर्ण आजादी है, हर किसी को अपनी बात शांतिपूर्वक व बेबाकी से रखने का पूर्ण अधिकार प्राप्त है,

जिस अधिकार का हम सभी भारतीय समय-समय पर प्रयोग करते रहते हैं। यहाँ तक की हम सरकार के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों में भी बेबाकी से अपनी बात सार्वजनिक मंचों से जनता के सामने शांतिपूर्ण गांधीवादी ढंग से रखते हैं। लेकिन सोचने वाली बात यह है कि हाल के वर्षों के दौरान देश में जिस तरह केंद्र व राज्य सरकारों के विरोध के नाम पर व अपनी मांगों को लेकर जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, मध्यप्रदेश, असम, मेघालय, उत्तर प्रदेश, बिहार, तेलंगाना, दिल्ली आदि राज्यों में धरना, प्रदर्शन के नाम पर प्रदर्शनकारियों के द्वारा बड़े पैमाने पर हिंसा को अंजाम दिया गया था। 

पूर्व में हुई हिंसा व  हाल ही में दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा को तो देखकर लगता है कि देश में दंगाइयों में कानून का भय व सम्मान समाप्त हो गया है, वो बेखौफ होकर आयेदिन देश की बहुमूल्य सम्पत्ति व जानमाल को नुकसान पहुंचा रहे हैं, वो अब बेखौफ होकर इंसानियत का दुश्मन बनकर इंसानों की जान तक ले रहे हैं।

देश में दंगाइयों के आयेदिन आतंक के चलते यह हालात अब देश की सुरक्षा व्यवस्था व समुचित विकास के लिए भी बेहद चिंतनीय हो गये है। कही ना कही यह स्थिति अब देश के सर्वोच्च नीतिनिर्माताओं के लिए तत्काल विचारणीय व बेहद चुनौतीपूर्ण हो गयी है। क्योंकि हाल के वर्षों के अधिकांश बड़े प्रदर्शनों में जिस तरह से भड़काऊ भाषणों के चलते प्रदर्शनकारी अचानक से ही बहुत ज्यादा उग्र व हिंसक होकर आम लोगों के जानमाल को नुकसान पहुंचाने लगते हैं, सरकार को उन सभी घटनाओं की तह में जाकर हिंसा होने का कारण जानना होगा कि आखिर सरकार के प्रतिनिधियों के द्वारा प्रदर्शनकारियों से संवाद में क्या कोई कमी रह गयी थी, जो ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गयी या फिर इस हिंसा के पीछे कुछ नेता भड़काऊ भाषण देकर कही देश को कमजोर करने वाली ताकतें के इशारे पर तो चुपचाप काम करके भोलेभाले कुछ देशवासियों को हिंसा करने के लिए उकसाने व बरगलाने का काम तो नहीं कर रहे है। हालांकि दिल्ली में हुई हिंसा पर गृहमंत्री अमित शाह के द्वारा संसद में दिये गये बयान के अनुसार, सुनियोजित तरीके से साजिश के सबूत दिल्ली हिंसा की जांच में लगातार जांचकर्ताओं को मिल रहे हैं, जो बेहद चिंता का विषय है। देश में प्रदर्शनों की आड़ में आयेदिन होने वाली इस हिंसा पर मैं देशवासियों से अपनी चंद पंक्तियों के माध्यम से कहना चाहता हूँ कि

"खून से सींचा है वतन को देशभक्तों ने अपने,

लोगों ने प्राण न्यौछावर किये हैं वतन पर अपने,

आज उसको कुछ गद्दारों से खतरा है दोस्तों,

वतन की खातिर अब एकजुट हो जाओं दोस्तों,

आपस में भाईचारा व एकता बढ़ाओं दोस्तों,

फिर से भारत को विश्वगुरु बनाओ़ दोस्तों।।"

जिस तरह से पिछले कुछ वर्षों में कभी केंद्र सरकार व कभी राज्य सरकार के खिलाफ हुए इन हिंसक प्रदर्शनों को देखकर लगता है कि इनमें हिंसा करने की बाकायदा तरीकें से स्क्रिप्ट लिखी गयी है, सरकार के विरोध के नाम पर चल रहे प्रदर्शन के नाम पर इतने बड़े स्तर पर हिंसा मन में एक शंका बार-बार लेकर आती है कि यह सब देश विरोधी लोगों की एक सुनियोजित साजिश है, जिसमें हमारे देश के चंद नेता व कुछ लोग जाने-अनजाने में या जानबूझकर देश विरोधी ताकतों के हाथों में खेल रहे हैं, यह प्रदर्शनकारी लोग अपनी मांगों की जगह जाने-अनजाने में भारत विरोधी षडयंत्र का हिस्सा बन रहे हैं। केंद्र सरकार व राज्य सरकारों को देश में प्रदर्शन के नाम पर घटित पिछले कुछ वर्षों की हिंसा की तह में जाकर जाचं करवा कर यह जानना होगा की यह प्रदर्शनकारियों का सरकार के प्रति स्वभाविक गुस्सा था या एक सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया भारत विरोधी षडयंत्र है। क्योंकि अब देश में प्रदर्शन के नाम पर अति हो चुकी है, अब शांतिपूर्वक धरने-प्रदर्शन की जगह आयेदिन "भीडतंत्र" के आतंक से देश की भोलीभाली कानून पंसद जनता बेहद परेशान हो गयी है। हाल ही में दिल्ली हिंसा में जिस तरह दंगाइयों ने सुनियोजित तरीके से से दिल्ली पुलिस के आलाधिकारी डीसीपी अमित शर्मा, एसीपी अनुज कुमार व उनकी टीम पर जानलेवा हमला किया जिसमें यह आलाधिकारी व उनकी टीम के कई सदस्य गम्भीर रूप से घायल हो गये थे, जिसमें से हैड़ कास्टेबल रतन लाल शहीद हो गये थे, वही दंगाइयों ने आईबी के अधिकारी अंकित शर्मा को भी दर्दनाक ढंग से अपना शिकार बना लिया था, साथ बहुत सारे लोगों की हत्या व बड़े पैमाने पर आगजनी की थी, जो अब देश में दंगाइयों के बढ़ते दुस्साहस को दर्शाता है।

देश में आयेदिन घटित होने वालें इन हिंसक प्रदर्शनों की घटनाओं पर नियम-कायदे व कानून पसंद देशवासियों में अब बेहद आक्रोश दिनप्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। वो देश में व्याप्त हो चुकें इस "भीड़तंत्र" के आतंक से अब हर हाल में मुक्ति चाहते है।

वो देश में प्रदर्शनों के नाम पर होने वाली समाज को झकझोर देने वाली इस हिंसा व आतंक से स्थाई रूप से मुक्ति चाहते हैं, वो अपने ही हाथों से अपने देश में आयेदिन आग लगाने वाली तोडफ़ोड़ करने वाली उग्र भीड़ के "भीड़तंत्र" व उसको उकसाने वालें चंद देश विरोधी नेताओं व चंद देश विरोधी लोगों को अब जेलों की सलाखों के पीछे सख्त सजा के साथ बंद देखना चाहते हैं, वो चाहते हैं कि सरकार इन हिंसा फैलाने वाले देशद्रोही आतंकी लोगों से हिंसा में हुए नुकसान की भरपाई उनकी सम्पत्ति जब्त करके करें, वो चाहते हैं कि अब इस हिंसा पर सरकार के द्वारा बने कानून में सख्त प्रावधान करके स्थाई रूप से दंगेफसाद को सख्ती के साथ देश में नियंत्रण किया जाये। जिससे कानून पंसद व भारतीय संविधान में पूर्ण विश्वास रखने वाले लोगों के जानमाल की सुरक्षा हो सकें व उनके प्यारे देश भारत के विकास को गति देने के लिए सभी देशभक्त लोगों को शांतिपूर्ण विकासशील माहौल प्राप्त हो सकें और वो देश की एकता अखंडता व आपसी भाईचारे को बरकरार रख सकें।

।। जय हिन्द जय भारत ।।

।। मेरा भारत मेरी शान मेरी पहचान ।।

Share To:

Post A Comment: