मुख्यालय से ग्रामीण क्षेत्रों तक प्रशासन सतर्क।            अजय कुमार पांडे/ कलयुग की कलम         

औरंगाबाद: ( बिहार ) देश के विभिन्न राज्यों में जब कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी  से लोग जुझंने लगे तो मामले को गंभीरता से लेते हुए देश के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा की यदि सुरक्षित रहना है तो 22 मार्च 2020 को 1 दिन के लिए पूरे देश में जनता कर्फ्यू का पालन अवश्य करें और संध्या 5:00 बजे अपने अपने घरों में ताली, थाली अवश्य बजाएं तभी सुरक्षित रह पाएंगे ! यही इस महामारी से बचने का बेहतर तरीका है ! यह घातक बीमारी कोरोना से पीड़ित एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से ही तेजी से फैलता है ! कम से कम 1 मीटर की दूरी ऐसे लोगों से अवश्य बनाएं ! इसके बाद 22 मार्च को ऐसा ही समस्त देशवासियों ने एकता का परिचय देते हुए मिसाल पेश किया की विकट परिस्थितियों में हम सब पूरे भारतवासी एक हैं ! सबसे बड़ी बात तो है कि करोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए देश भर के समस्त पैसेंजर, एक्सप्रेस ट्रेन को रोकते हुए सिर्फ मालगाड़ी ही एक 31 मार्च तक चलाने का आदेश रेलवे विभाग द्वारा जारी कर दिया गया ! हवाई सेवाएं, सड़क पर चलने वाली समस्त वाहन पर भी रोक लगा दी गई! हालांकि बिहार में पूर्व से तो सरकारी आंकड़ों के मुताबिक एक भी कोरोना बीमारी का मरीज सामने नहीं आया था परंतु 20 मार्च 2020 बंदी के दिन जब पटना अस्पताल में एक मरीज इसी बीमारी से मौत होने की पुष्टि हुई तो बिहार के माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए हाई लेवल मीटिंग की और 31 मार्च तक के लिए पूरे बिहार को लॉक डाउन करने की घोषणा कर दी! लेकिन इमरजेंसी सेवाएं जारी रखने का आदेश दे दिया इसी मद्देनजर औरंगाबाद के जिला प्रशासन पुलिस प्रशासन ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यालय स्थित रमेश चौक पर अपनी पूरी टीम के साथ 23 मार्च को भी सुबह से ही कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने का काम किया है ! लगभग 2:30 बजे रमेश चौक पर खुद औरंगाबाद जिला परिवहन पदाधिकारी, एमवीआई, सदर अनुमंडल पदाधिकारी डॉक्टर प्रदीप कुमार, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अनूप कुमार, नगर थानाध्यक्ष रवि भूषण अपने अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए पूरी तरह से पुरानी जीटी रोड मुख्य बाजार में बेवजह आम लोगों के प्रवेश करने वाले पर पूरी तरह से बैरियर लगवाकर रोक लगा दी! लेकिन मौके पर मौजूद पदाधिकारियों ने प्रेस वार्ता के दौरान पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि इमरजेंसी सेवाओं को हम लोगों द्वारा बाधित नहीं किया जा रहा है ! औरंगाबाद वासियों को भी चाहिए कि कोरोना जैसी गंभीर बीमारियों से प्रशासन, सरकार का साथ दें ! रमेश चौक पर कई लोगों का चालान भी काटा गया वही दूसरी ओर नवीनगर प्रखंड अंतर्गत पडने वाली बारुण नबीनगर एनटीपीसी मुख्य पथ पर स्थित बड़ेम थाना के प्रभारी संजय कुमार ने भी खुद ग्रामीण क्षेत्रों में घूम घूम कर जनता से अपील करते हुए इमरजेंसी दुकानों को छोड़ अन्य दुकानों को बंद कराया और संवाददाता द्वारा पूछे गए सवालों पर जवाब देते हुए कहा कि हमारे क्षेत्र के लोगों ने समझाए जाने के बाद स्वेच्छा से अपनी-अपनी दुकाने बंद कर दी है ! ग्रामीण जनता को भी चाहिए कि सरकार द्वारा उठाए गए निर्णय का स्वागत करें सबका भला ही होगा ! थानाध्यक्ष संजय कुमार ने भी अपने क्षेत्रों में अनावश्यक दुकानें बंद रखने की साथ ही नरारीकला खुर्द थाना प्रभारी रामराज्य सिंह ने भी अपने टीम के साथ खुद अपने क्षेत्रों में भ्रमण करते हुए ग्रामीणों से अनुरोध कर अनावश्यक दुकानों को बंद कराया !गौरतलब हो की मुख्यालय में कर्मा रोड, मुख्य बाजार किराना दुकान, सब्जी दुकाने खुली देखी गई और कुछ दो पहिए, चार पहिया वाहन चलते देखा गया !

Share To:

Post A Comment: