ढीमरखेड़ा के पिंडरई गांव में दो दिन पहलें मृत मिलें काले हिरण का किया गया अंतिम संस्कार

कलयुग की कलम ग्रामीण रिपोर्टर सोनू त्रिपाठी कटनी 

ढीमरखेड़ा तहसील से 3 दिन पहले ढीमरखेड़ा वन अमले को मृत अवस्था में मिले काले हिरण का रविवार को अंतिम संस्कार किया गया। हिरण की मौत की वजह अफसरों द्वारा तेंदुए के शिकार होना बताया गया है। वन विभाग के एसडीओ ने बताया कि 6 मार्च को वन परिक्षेत्र ढीमरखेड़ा के ग्राम पिंडरई मोड पर एक काले हिरण के मृत होने की ग्रामीणों द्वारा सूचना मिली थी। मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लिया गया। 24 घंटे तक रखकर परीक्षण किया गया। इसके बाद रविवार को अंतिम संस्कार किया गया। अफसरों ने बताया कि ग्राम पिंडरई सहित आसपास के क्षेत्रों में पिछले कुछ दिनों से तेंदुए का मूवमेंट बना हुआ है। 6 मार्च को ग्राम पिंडरई मोड़ पर मिले काले हिरण के शव को रामपुर परिक्षेत्र कार्यालय में लाया गया। जहां काले हिरण को किसी ने ज़हर तो नहीं दिया है इसके लिए 24 घंटे रखकर इसकी जांच की गई रविवार सुबह पशु चिकित्सक डॉ आर के सोनी ने हिरण का पीएम किया।

Share To:

Post A Comment: