भाजपा के एजेंट की तरह  कार्य कर रहे  राज्यपाल.. शिव सिंह

कलयुग की कलम 

 रीवा 17 मार्च 2020... मध्य प्रदेश के मौजूदा राजनीतिक हालातों को लेकर जनता दल सेक्युलर के प्रदेशाध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने मध्य प्रदेश के राज्यपाल पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा कि वह भाजपा के एजेंट की तरह कार्य कर रहे हैं श्री सिंह ने आगे कहा कि किसी भी सरकार के मौजूद रहते राज्यपाल की शक्तियां मंत्रिपरिषद में निहित हैं राज्यपाल उसकी सलाह के बिना कोई आदेश निर्देश जारी नहीं कर सकते ऐसा सुप्रीम कोर्ट ने भी एक फैसले में कहा था कि विधानसभा अध्यक्ष के कार्य में हस्तक्षेप करना राज्यपाल के क्षेत्राधिकार में नहीं आता है राज्यपाल विधानसभा अध्यक्ष का मार्गदर्शक या परामर्शदाता नहीं है इन सब महत्वपूर्ण संवैधानिक व कानूनी बिंदुओं के आधार पर देश के अंदर मोदी राज में जिस तरह से राष्ट्रपति से लेकर राज्यपाल तक देश में कठपुतली की तरह काम कर रहे हैं वह लोकतंत्र के विपरीत है पूर्व में कर्नाटका महाराष्ट्र में जिस तरह से राज्यपालों ने  संविधान के विपरीत कार्य किया वही कार्य आज मध्य प्रदेश के राज्यपाल कर रहे हैं जिसे सारा देश देख रहा है राज्यपाल को यदि अपने गरिमा  अनुसार कार्य करना था तो सबसे पहले उन 16 बंधक विधायकों को भाजपा के चंगुल से छुड़ाकर सदन में पेश  करवाना था और फिर यदि सरकार संविधान के विपरीत निर्णय लेती तो उन्हें अपने संवैधानिक पदों का उपयोग करना था लेकिन  बंधक विधायकों के मामले में राज्यपाल राष्ट्रपति एवं मोदी सरकार मूक बधिर क्यों है आज जिस तरह से मोदी सरकार में दूसरे  दलों के विधायकों सांसदों को बंधक बनाया जा रहा है इससे पूरा देश चिंतित है आज एक विधायक को उसके पिता से नहीं मिलने  दिया जा रहा जबकि भारत की जेलों में  भी ऐसा कानून लागू नहीं है जब से देश में बीजेपी सरकार  आई राष्ट्रपति से लेकर राज्यपाल तक दबाव में काम कर रहे हैं जो लोकतंत्र व संविधान की मंशा के विपरीत है आज मध्य प्रदेश के राज्यपाल जो भी निर्णय दे रहे हैं वे संवैधानिक ढांचे के विपरीत है उनके निर्णय बेहद निंदनीय है मध्य प्रदेश जनता दल सेकुलर राज्यपाल के ऐसे निर्णय की घोर भर्त्सना करता है

देश की न्यायपालिका को खतरा

====================

मोदी सरकार में देश को संसद से नहीं सिर्फ न्यायपालिका से भरोसा  है प्रजातंत्र का मुख्य स्तंभ न्यायपालिका है जब देश के तीन स्तंभ ईमानदारी से कार्य करना बंद कर देते हैं तब न्यायपालिका ही एक सहारा होती है जिस पर पूरे देश की निगाहे रहती हैं लेकिन इस मोदी सरकार में सरकार से पीड़ित होकर सुप्रीम कोर्ट के चार जजों  को सड़क पर उतारना पड़ा अभी हाल ही में दिल्ली हाईकोर्ट के जज महोदय के एक आदेश पर उनका रातों-रात ट्रांसफर कर दिया गया उत्तर प्रदेश की योगी सरकार  मैं सरकार व न्यायपालिका के बीच पोस्टर वार हुआ ऐसे बड़े घटनाक्रमों को लेकर पूरे देश को यह चिंता सताने लगी है कि देश की न्यायपालिका मोदी राज के चलते खतरे में है आज देश के अंदर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के ऊपर हजारों मामले लंबित हैं लेकिन उन पर कार्यवाही नहीं हो रही कहीं ना कहीं  दहशत का माहौल है आज देश के  कानून विशेषज्ञ एवं बुद्धिजीवियों को आगे आकर न्यायपालिका में प्रवेश कर गए दहशत के माहौल को रोकना होगा अन्यथा  न्यायिक अधिकारियों को भी बंधक बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे  l

              शिव सिंह एडवोकेट
प्रदेश अध्यक्ष जनता दल सेक्यूलर मध्य प्रदेश
Share To:

Post A Comment: