कोरोना से भयभीत होने की जरुरत नहीं, बचाव की रखें सावधानी - कलेक्टर

मीडिया एड्वोकेसी कार्यशाला सम्पन्न

कलयुग की कलम ग्रामीण रिपोर्टर कटनी 

कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने कहा कि जिले सहित प्रदेश में कहीं से भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति की सूचना नहीं मिली है। कोरोना वायरस से भयभीत होने अथवा घबराने की जरुरत कतई नहीं है। चीन सहित विश्व के 30 देशों से आने वाले व्यक्ति से सम्पर्क के समय अथवा आम दिनचर्या में व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ बचाव की सावधानियां जरुर अपनायें। नोबल कोरोना वायरस बीमारी की रोकथाम एवं बचाव से संबंधित मीडिया एड्वोकेसी कार्यशाला में यह बात कही। इस मौके पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ0 एस0के0 निगम, डीआईओ डॉ0 समीर सिंघई सहित नर्सिंग होम्स के संचालक और मीडिया प्रतिनिधि उपस्थित थे। कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि राज्य शासन के निर्देशानुसार कोरोना वायरस से बचाव के लिये सभी सावधानियों संबंधी प्रोटोकॉल का पालन दृढ़ता से किया जा रहा है। बचाव और उपचार के लिये सभी चाक चौबंद उपाय किये गये हैं। जिला अस्पताल कटनी में दो आईसोलेशन वार्ड में 4 बेड विशेष रुप से आरक्षित किये गये हैं। जिनमें वेन्टीलेटर सहित अन्य चिकित्सीय उपाय उपलब्ध हैं। प्रोटोकॉल के तहत संक्रमित मरीजों को क्वारन्टाईन स्थल के रुप में उप स्वास्थ्य केन्द्र जुहला में 2 बेड का आईसोलेशन कक्ष बनाया गया है। कोरोना वायरस की जांच सुविधा भोपाल के अलावा जबलपुर में भी उपलब्ध है। जांच सैम्पल लेने के लिये आवश्यक किट और उपकरण जिला अस्पताल कटनी में उपलब्ध है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ0 एस0के0 निगम ने बताया कि चीन के हुबई राज्य के बुहान शहर में नये प्रकार का कोरोना वायरस से निमोनिया के प्रकरण पाये गये हैं। चीन के अलावा 30 अन्य देशों में बीमारी का संक्रमण पाये जाने पर विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इसे अर्न्तराष्ट्रीय विषय की लोक स्वास्थ्य एमरजेन्सी घोषित किया गया है। यह वायरस सांप और चमगादड़ में मुख्यताः पाया जाता है। चीन और अन्य चिन्हांकित देशों से आने वाले यात्रियों के साथ सम्पर्क में विशेष सावधानी बरतने की जरुरत है। इन देशों के यात्रियों को यहां आने पर 14 दिन घर में एकांत में आईसोलेशन कर निगरानी किये जाने का प्रोटोकॉल है। संक्रमण से बचाव के लिये खांसते-छींकते समय मुंह पर रुमाल रखें या कोहनी मोड़कर रखें। बार-बार साबुन से हाथ साफ करें। जिला अस्पताल में कोरोना वायरस से उपचार प्रबंधों के लिये डॉ0 समीर सिंघई को नोडल अधिकारी बनाया गया हैं इसी प्रकार मेडिकल विशेषज्ञ डॉ0 एस0पी0 सोनी को भी प्रकोष्ठ में रखा गया है। किसी भी प्रकार के लक्षण अथवा परेशानी पर नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र अथवा नोडल अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है।

Share To:

Post A Comment: