लाॅकडाउन-2 में कलेक्टर ने अतिआवश्यक सेवाओं में ढ़ील दी गई सेवाओं में भी सोशल डिस्टेंसिंग आवश्यक-कलेकटर

अविनाश शर्मा
शहडोल मध्य प्रदेश
6261959407

"KKK न्यूज" शहडोल-लेक्टर एवं जिला दण्ड़ाधिकारी डाॅ. सतेन्द्र सिंह ने आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 10 (1)(2) एवं धारा 140 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए कोरोना वायरस  के संक्रमण के रोकथाम एवं उपायो के के संबंध मंे नवीन दिशा-निर्देश जारी किए है जिसके अनुक्रम में अतिआवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं में छूट प्रदाय की गई है। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट ने बताया कि सभी स्वास्थ्य सेवाएॅ (आयुष सहित) के अंतर्गत अस्पताल, नर्सिंग होम, क्लीनिक, टेलीमेडिसिन सुविधाएं, डायनाॅस्टिक चिकित्सा प्रयोगशाला एवं संग्रह केंद्र, डिस्पेंसरी, केमिस्ट, फार्मेसी, जन औषधि केंद्र और मेडिकल उपकरण की दुकानें एवं सप्लायर सहित सभी प्रकार की दवा की दुकानें, पशु चिकित्सा अस्पताल, औषधालय, क्लीनिक, पैथोलॉजी, लैब, वैक्सीन और दवा की बिक्री और आपूर्ति, दवाओं फार्मास्युटिकल्स, चिकित्सा उपकरणों, चिकित्सा, ऑक्सीजन उनके पैकेजिंग सामग्री कच्चे माल और मध्यवर्ती की विनिर्माण इकाइयां, सभी चिकित्सा और पशु चिकित्सा कर्मियों और वैज्ञानिकों, नर्सों, पैरामेडिकल कर्मचारियों और अस्पताल सहायता सेवाओं सहित का आगमन (अंतर इंट्रा और स्टेट), एंबुलेंस सहित चिकित्सा एवं स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे का निर्माण एवं विकास कार्य में ढ़ील दी गई है।

कृषि, पशुपालन, डेयरी, मछली पालन, कार्य एवं सेवाएं के अंतर्गत खेत में किसानों और खेती श्रमिकों द्वारा खेती का संचालन, कृषि उत्पादों की खरीदी एवं उपार्जन में लगी एजेंसियों एवं कृषि उपज मंडी समिति का संचालन हार्वेस्टर, ट्रैक्टर आदि फार्म मशीनरी एवं कस्टम हायरिंग सेंटर (CHC), उर्वरक, बीज और कीटनाशक के प्रतिष्ठान, कृषि मशीनरी की दुकानें, स्पेयर पार्ट्स की (आपूर्ति श्रंखला सहित) और उनके मरम्मत के प्रतिष्ठान, गौशालाओं सहित पशु आश्रय, गृहों का संचालन और और पोल्ट्री फार्म और हेचरी एवं पशुधन खेती गतिविधि सहित पशुपालन का संचालन उपार्जन से संबंधित सेवाएं बारदाना, सुजा, सिलाई आदि में ढील दी गई है।

प्रतिष्ठान एवं व्यवसायिक सेवाओं के अंतर्गत जिला शहडोल क्षेत्रांतर्गत अत्यावश्यक वस्तुएं जैसे राशन, किराना, सब्जी, फल, दूध आदि के प्रतिष्ठान पूर्णतः बंद रहेंगे। शहरी क्षेत्र अंतर्गत अत्यावश्यक वस्तुएं जैसे राशन, किराना, सब्जी, फल के प्रतिष्ठान होम डिलीवरी अथवा घर-घर सुविधा के माध्यम से प्रातः 9.00 बजे से दोपहर 2.00 बजे तक के लिए संचालित किए जा सकेंगे परंतु सोशल डिस्टेंस मानक के प्रभावी नियंत्रण हेतु प्रतिष्ठान से ग्राहकों को सीधे सामग्री नहीं दे सकेंगें। शहरी क्षेत्र अंतर्गत आवश्यक वस्तुओं के थोक दुकानों का फाटक एवं शटर बंद कर माल स्थानों पर खुदरा विक्रेता एवं दुकानों को भेजा जा सकेगा। जिसकी समयावधि प्रातः 9.00 बजे से दोपहर 2.00 बजे तक रहेगी। शहडोल जिले में समस्त दूध विक्रेता, होम डिलीवरी अथवा घर-घर (डोर टू डोर) सुविधा के माध्यम से प्रातः 7.00 बजे से 9.00 बजे तक एवं सायं 7.00 से रात्रि 9.00 तक दूध का वितरण कर सकेंगे एवं इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का पालन करेंगे।

कलेक्टर एवं जिला दण्ड़ाधिकारी ने आदेषित किया है कि ग्रामीण क्षेत्र अंतर्गत अत्यावश्यक वस्तुओं जैसे राशन, किराना, सब्जी एवं फलों के प्रतिष्ठानों के लिए समय का कोई प्रतिबंध नहीं होगा। शहरी क्षेत्रों के अंतर्गत पीडीएस दुकाने प्रातः 9.00 बजे से दोपहर 2.00 बजे तक खुली रहेंगी। ग्रामीण क्षेत्रों में पीडीएस दुकान में प्रातः पूर्व से नियमित समय तक खुले रहेंगे। गैस एजेंसियां पूर्व की भांति घर-घर गैस सिलेंडर वितरण का कार्य कर सकेंगे, गैस एजेंसी के पास धारी कार्यकर्ता के एजेंसी से घर एवं घर से एजेंसी आने-जाने की अनुमति होगी। किसी भी परिस्थिति में गैस गोदाम एवं गैस एजेंसी से गैस सिलेंडर वितरण की अनुमति नहीं होगी। मुर्गी, मांस और अंडा मछली (डोर टू डोर) डिलीवरी प्रातः 9.00 बजे से दोपहर 2.00 बजे तक की जाएगी। पशु चारा और चारा आदि पर समय का कोई प्रतिबंध नहीं होगा। सब्जी एवं फल मंडी या लाॅक डाउन में वर्तमान स्थानों पर ही कार्य करेंगी।

प्रसारण डीटीएच और केबल सेवाओं सहित प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, आईटी और आईटी सक्षम सेवाएं 50 प्रतिशत मैन पावर के साथ कोरियर सेवाएं, सप्लाई में अन्य लिंक सहित कोल्ड स्टोरेज और वेयरहाउसिंग सेवाएं कार्यालय में आवासीय परिसरों के रख-रखाव और रखरखाव के लिए निजी सुरक्षा सेवाएं और सुविधाएं प्रबंधन सेवाएं, पोर्टल, होमस्टे, लॉज और मोटल जो लॉक डाउन चिकित्सा एवं आपातकालीन कर्मचारियों से पर्यटकों और व्यक्तियों को समायोजित कर रहे हैं, स्व नियोजित व्यक्ति जैसे इलेक्ट्रॉनिक, आईटी, मरम्मत, प्लेम्बर, मोटर यांत्रिकी और बढ़ाई प्रदान की जाने वाली सेवाएं, कोल्ड स्टोरेज और वेयर हाउसिंग सेवाएं, जिले में स्थापित ओपीएम अमलाई, रिलायंस अल्ट्राटेक एवं जिले के प्रबंधन हेतु उक्त प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे। किंतु वर्तमान परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए स्वच्छता एवं सोशल डिस्टेंसिंग संबंधित नियमों का पालन सुनिश्चित करेंगे।

उक्त आदेश में सामाजिक क्षेत्रांतर्गत बच्चों, विकलांगों मानसिक रूप से विकलांग, वरिष्ठ नागरिक, निराश्रित महिलाओं, विधवाओं के लिए घर का संचालन, आंगनबाड़ियों का संचालन, लाभार्थियों अर्थात बच्चा,ें महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के दरवाजे पर 15 दिन में एक बार खाद्य पदार्थों और पोषण का वितरण, सामाजिक सुरक्षा पेंशन का संवितरण ऑनलाइन शिक्षण के माध्यम से शैक्षणिक कार्य सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मनरेगा कार्य ढ़ील दी गई है। 

उक्त आदेश में कलेक्टर ने कहा है कि सार्वजनिक उपयोगिता के कार्य अंतर्गत पेट्रोल पंप, एलपीजी, पेट्रोलियम और गैस खुदरा और भंडारण आउटलेट, विद्युत उत्पादन एवं वितरण इकाइयां और सेवाएं डाकघरों सहित डाक सेवाएं, नगर पालिका, स्थानीय निकाय स्तरों पर जल स्वच्छता और अपशिष्ट प्रबंधन क्षेत्र का संचालन दूरसंचार और इंटरनेट सेवाएं प्रदान करने वाली उपयोगिताओं का संचालन, बैंक शाखाएं और एटीएम बैंकिंग संचालन के लिए आईटी विक्रेता, बैंकिंग संवाददाता (बीसी) ए.टी.एम. संचालन और प्रबंधन एजेंसियाॅ, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड द्वारा अधिसूचित और पूंजी और बाजार सेवाएं, आईआरडीएआई बीमा कंपनियां, शासन द्वारा स्वीकृत कॉमन सर्विस सेंटरग्राम पंचायत स्तर पर ढ़ील रहेंगी। 

इसी प्रकार परिवहन एवं माल वाहन की लोडिंग एवं अनलोडिंग अंतर्गत सभी माल वाहनों को परिवहन लोडिंग, अनलोडिंग करने की अनुमति होगी। सभी खाली माल वाहनों को भी परिवहन की अनुमति होगी। राजमार्गों पर ट्रक की मरम्मत और ढाबों के लिए दुकान, एवं आग. कानून व्यवस्था और आपातकालीन सेवाएं पेट्रोलियम उत्पादों, एलपीजी, खाद्य उत्पादों चिकित्सा आपूर्ति सहित अनावश्यक वस्तुओं का क्रांस बार्डर आवागमन, कटाई और बुवाई से संबंधित उपकरण जैसे कि हार्वेस्टर और अन्य कृषि एवं बागवानी उपकरण का जिला में एवं अंतर राज्य परिवहन, चिकित्सा सहित आवश्यक कार्य हेतु चार पहिया वाहनों में, निजी वाहन संचालक के अलावा एक यात्री को बेकशीट में एक दोपहिया वाहनों में केवल वाहन चालक को अनुमति है। सार्वजनिक परिवहन के साधन जैसे बस, टैक्सी, ऑटो, रिक्शा, ई-रिक्शा पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगी। मेडिकल आपातकालीन एवं मृत्यु के मामले में शासन के नियमानुसार पास के साथ छूट है। अन्य सभी प्रकार की निजी कारणों से होने वाले अंतर जिला एवं अंतर राज्य परिवहन प्रतिबंधित रहेंगे।

इसी प्रकार उद्योग एवं उत्पादन इकाई अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित उद्योग अर्थात निगमों और नगरीय निकायों की बीमा के बाहर दवाओं, दबा चिकित्सा, उपकरण उनके कच्चे माल और मध्यवर्ती आटा चक्की, आटा, दाल, तेल, खाद्य, साबुन सिर्फ आदि आवश्यक सामग्री की मिलें, कोयला और खनिज उत्पादन, परिवहन, विस्फोटकों की आपूर्ति, पैकेजिंग सामग्री की विनिर्माण इकाइयां, उर्वरक कीटनाशक और बीज की विनिर्माण और पैकेजिंग इकाइयां, ग्रामीण क्षेत्रों में ईंट भट्ठे, उत्पादन इकाइयां जिन्हें एक सतत प्रक्रिया की आवश्यकता होती है एवं उनकी आपूर्ति श्रंखला, श्रमिकों के स्थल परिवहन समर्पित परिवहन में नियोक्ताओं द्वारा किया जाएगा। आवश्यक वस्तु सामग्री निर्माण हेतु जिला कलेक्टर की अनुमति उपरांत अन्य इकाइयां में छूट दी गई है।

इसी प्रकार सार्वजनिक स्थानों के लिए दिशा-निर्देश अंतर्गत सभी सार्वजनिक स्थानों, कार्य स्थलों, पर फेस कव्हर पहनना अनिवार्य है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार सार्वजनिक स्थानों, कार्य स्थलों, और परिवहन के प्रभारी सभी व्यक्ति सामाजिक दूरी सुनिश्चित करना अनिवार्य है। किसी सार्वजनिक स्थान पर 5 या 5 से अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने की अनुमति नहीं होगी। विवाह और अंत्येष्टि जैसे कार्यक्रम में 20 से अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने की अनुमति नहीं है। सार्वजनिक स्थानों पर थूकना जुर्माने के साथ दंडनीय होगा। शराब, गुटखा, तंबाकू आदि की बिक्री प्रतिबंधित है और थूकना पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। कार्यालय एवं कार्य स्थलों के लिए दिशानिर्देश अंतर्गत सभी कार्य स्थलों में जांच की यवस्था होगी और सुविधाजनक स्थानों पर सेनेटाइजर प्रदान किए जाएंगे। कार्य स्थलों में पाली बदलने के बीच एक घंटा का अंतर होगा और सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के लिए कर्मचारियों के भोजन अंतराल पृथक-पृथक पारी में होगा। 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों और 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों के सह-रूग्णता वाले माता-पिता और व्यक्तियों को घर घर काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। निजी और सार्वजनिक दोनों तरह के कर्मचारियों के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाएगा। सभी संगठन शब्दों के बीच आने का स्थल को सेनीटाइज करेंगे, बड़ी बैठकर निषिद्ध है।

इसी प्रकार विनिर्माण कार्यालयों, कारखानों, प्रतिष्ठानों के लिए जारी दिशा-निर्देश के अंतर्गत परिवहन सहित सभी क्षेत्रों को उपयोगकर्ताओं के अनुकूल कीटाणु नाशक माध्यमों के उपयोग से पूरी तरह से कीटाणु रहित किया जाएगा। भवन कार्यालय आदि का प्रवेश द्वार कैफेटेरिया और कैंटीन, बैठक, कक्ष, सम्मेलन हॉल एवं खुले स्थान उपलब्ध बरामदा, प्रवेशद्वार, स्थल, बंकर पोर्टा केबिन, भवन आदि उपकरण और लिफ्ट, बॉथरूम, टॉयलेट, सिंक, पानी के बिंदु आदि दीवारें एवं अन्य सभी सतहे, बाहर से आने वाले श्रमिक के लिए सार्वजनिक परिवहन प्रणाली पर बिना किसी निर्भरता के विशेष परिवहन सुविधा की व्यवस्था की जाएगी। इन वाहनों को केवल 30 से 40 प्रतिषत यात्री क्षमता के साथ काम करने की अनुमति रहेगी। परिसर में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों और मशीनरी को स्प्रे अनिवार्य रूप से कीटाणु रहित किया जाना चाहिए। कार्य स्थल पर प्रवेश करने और बाहर निकलने के लिए अनिवार्य थर्मल स्कैनिंग आवश्यक है। श्रमिकों के लिए चिकित्सा बीमा अनिवार्य किया जाए, टच फ्री तंत्र के साथ अधिमान्यतः हाथ धोने और सैनिटाइजर के लिए प्रावधान सभी प्रवेश और निकास बिंदुओं और सामान्य क्षेत्रों में किया जाएगा। सभी वस्तुओं की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता होनी चाहिए। कार्य स्थलों में पाली बदलाव के बीच एक घंटा का अंतर होगा और सामाजिक गड़बड़ी को सुनिश्चित करने के लिए कर्मचारियों के भोजन अंतराल पृथक पृथक पाली में होगा। 10 या अधिक लोगों की बड़ी सभा या बैठकों का आयोजन नहीं किया जाएगा। कार्यस्थल की साइटों और सभाआंे बैठकों और प्रशिक्षण सत्रों में कम से कम 6 फीट की दूरी पर बैठे, साइटों पर गैर आवश्यक आगंतुकों पर पूर्ण प्रतिबंध होगा। आसपास के क्षेत्र में अस्पताल एवं क्लीनिक जो (कोविड-19) रोगियों के इलाज के लिए अधिकृत है कि, पहचान की जाएगी और कार्यस्थल पर हर समय एक सूची उपलब्ध रहेगी। 

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी डॉ. सत्येंद्र सिंह ने कुछ नियमों का उल्लेख किया है जिसमें सभी प्रकार की सेवाओं के संचालन में सोशल डिस्टैंसेस एवं अन्य सुरक्षा नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य गाइडलाइन का पालन नहीं करने वाले किसी भी प्रतिष्ठान, उद्योग को इंसीडेंट कमांडर (तहसीलदार, थाना प्रभारी से अनिम्न श्रेणी के अधिकारी) द्वारा 3 मई तक सील किया जा सकेगा। उक्त आदेश का उल्लंघन भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन नियम 2005 की धारा 51, 53, 56, 57, 59, 60 तथा शासन के अन्य प्रावधानों के अंतर्गत दंडनीय होगा। अतः नियमो का पालन अनिवार्य रूप से पालन किया जाना सुनिश्चित किया जाए।

Share To:

Post A Comment: