समाजसेवियों ने असंगठित मजदूरों के परिवारों की व्यवस्था सम्भाली लेकिन प्रशासन 30 दिन में 12 किमी भी नहीं चल सका।


      K K K न्यूज रिपोर्टर

                नैनी

      सुभाष चंद्र पटेल

सरकार व प्रशासन प्रत्येक जरूरतमंदों तक पहुंचाए राहत सामग्री।

गरीब मजदूरों के बच्चों के शिक्षा की व्यवस्था करे सरकार। आर.के.पाण्डेय एडवोकेट।

प्रयागराज नैनी कोरोना संकट में हालांकि समाजसेवियों ने असंगठित मज़दूरों के परिवारों की व्यवस्था सम्भाल रखी है लेकिन आश्चर्य है कि बड़े दावे करने वाली सरकार व प्रशासन मात्र 12 किमी की दूरी भी तय नही कर पाया जिससे गरीब व बेसहारा मजदूर सरकारी सुविधाओं से महरूम हैं।

जानकारी के अनुसार आज एनजीओ परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी के स्वयंसेवक जब प्रयागराज के इंडस्ट्रीयल बेल्ट नैनी के गरीब व बेसहारा मजदूरों के परिवारों को भोजन कराने लगे तो मजदूरों ने अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा कि वे बिहार के चंपारण, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश के बांदा व मिर्जापुर के हैं जोकि यहां फंसे हैं जबकि उनके पास न तो रुपये हैं, न मोबाइल है व न ही राशन। उन्होंने बताया कि उनके मालिकों ने मजदूरी बन्द कर दी है तथा सरकार से भी कोई व्यवस्था नही मिली है। यह बेहद आश्चर्य है कि बड़े दावे करने वाली सरकार व प्रशासन प्रयागराज मुख्यालय से मात्र 12 किमी की दूरी पर फंसे इन सैकड़ों मजदूरों तक 30 दिन के लंबे अंतराल में भी क्यों नही पहुंची?

बता दें कि परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी के स्वयंसेवक जे.पी.त्रिपाठी(कोषाध्यक्ष), डॉ. राजीव सिंह, जे.पी.शर्मा (राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष), मनीष अग्रवाल(युवा कल्याण प्रभारी जयपुर), दिनेश मिश्र(शोहरतगढ़, सिद्धार्थ नगर), शिव प्रसाद, इ.अमित कुमार मिश्र, धर्मेंद्र विश्वकर्मा, विजय कुमार त्रिपाठी(जौनपुर) के सौजन्य से आज इन गरीब व बेसहारा सैकड़ों मजदूरों को भोजन उपलब्ध कराया गया तथा जल्द ही उनके लिए राशन व रोजगार उपलब्ध कराने का प्रयास करने का संकल्प लिया गया। इस अवसर पर संस्था के प्रबन्धक/मंत्री आर.के.पाण्डेय एडवोकेट ने बताया कि पीडब्ल्यूएस परिवार का प्रत्येक स्वयंसेवक सोशल डिस्टेंस का अनुपालन करते हुए अपनी क्षमता व सुविधा के अनुसार प्रत्येक जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहा है लेकिन सरकार व प्रशासन को भी इन जरूरतमंदों तक राहत सामग्री पहुंचाने व इन मजदूरों के बच्चों के शिक्षा की व्यवस्था करने की जरूरत है।






Share To:

Post A Comment: