“कॉंग्रेस के प्रदेशसचिव ने अपना जन्मदिन फ़ाईट अगेन्स कोरोना के लिए समर्पित किया

कलयुग की कलम 

“कोरोना महामारी में लॉकडाउन एंव सोशल डिस्टेंस को क़ायम रखते हुए की हज़ारों की मदद की कोशिश “

“बंधुओं ,साथियों ,मित्रों ने अनोखी पहल का स्वागत किया”

म.प्र. कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने बताया की आज उनके जन्मदिन के अवसर पर कोरोना महामारी से प्रभावित गरीब वर्ग के लोगों के मेरे निवेदन पर मेरे बंधुओं,साथियों एंव मित्रों ने यह ख़ुशी से निर्णय लिया हैं की मुझ से सम्बंधित प्रत्येक व्यक्ति अपने आस-पास के गरीब वर्ग के दस लोगों को प्रति परिवार दस किलो आटा एंव पॉइंट किलो तुवर दाल तथा पॉंच किलो चावल निःशुल्क वितरित करेगा।जिससे की कोरोना महामारी में गरीब वर्ग के लोगों को सहायता मिल सके।इस हेतु सोशल मीडिया एंव फ़ोन के माध्यम से अपील भी जारी की गई हैं।लगभग अभी तक दो हज़ार सहयोगियों ने सहमति दे दी हैं।यह कार्य आज 15 अप्रेल से 20अप्रेल तक जारी रहेगा।

इसमें न लॉकडाउन का उल्लंघन होगा न ही सोशल डिस्टेन्स का।

मानवता के लिए जनहित में उठाये इस कदम में सभी का अपार सहयोग एंव आर्शिवाद मिल रहा हैं ।जिसके लिए में आभारी हूँ।

जहॉं एक तरफ़ लोग राशन और जन्मदिन बधाई के बहाने लॉकडाउन का उल्लंघन करके शहर के लोगों को ख़तरे में पहुँचा रहे हैं वहीं यह एक अनुकरणीय सार्थक पहल हैं।

Fight against corona 

Do not remember days,

Remember monuments 

आप साथियों-बंधुओं-मित्रों से विनम्र निवेदन हैं की आज मेरे जन्मदिन के अवसर पर जीवन में पहली बार आपसे कुछ माँगना चाहता हूँ,उम्मीद हैं आप निराश नहीं करेगे.........

मेरा अनुरोध हैं की आप आज 15 अप्रेल से 20 अप्रेल तक आपके घरों के आस-पास में रहने वाले गरीब दस परिवारों को    

प्रति परिवार दस किलो आटा एंव पाँच किलो चावल तथा पाँच किलो दाल प्रदान करके मुझे मेरे जन्मदिन पर आर्शिवाद प्रदान करे।यह मेरा जीवन में प्रथम बार आपसे विनम्र आग्रह हैं।

आपका यह पावन कार्य मेरे जन्मदिन को सार्थक कर देगा ।यह कार्य मेरे लिए इस मानव जीवन की सबसे बड़ी शुभकामनाएँ रहेगी।कृपया सभी साथी -बंधु-मित्र यह कार्य करके मुझे प्यार और आर्शिवाद दे।आपकी यह शुभकामनाएँ मेरे जीवन में नयी ऊर्जा प्रदान करेगी ।आपके प्यार ,विश्वास और सहयोग की अभिलाषा में.......

आपका 

राकेश सिंह यादव 

प्रदेशसचिव म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी भोपाल


Share To:

Post A Comment: