...तो नियमों को तोड़कर आसमां छूने की तैयारी जांबाज पुलिस में सुपर हीरो बनने का जुनून पहले भी कई बार अधिकारियों ने लगाई है फटकार 

एक तरफ कानूनी दांव, तो दूसरी तरफ वर्दी का मजाक


अविनाश शर्मा
शहडोल मध्य प्रदेश
6261959407

"KKK न्यूज "शहडोल/कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये नगर में पुलिस जितनी सक्रिय दिखाई दे रही है, जिले के थानों में पुलिस चैन की नींद सो रही है। दोपहर में किसी भी थाने में कप्तान द्वारा लगाये गये टैण्ट पर पुलिस के जवान या तो नजर नहीं आएंगे, या फिर मोबाईल पर उलझे हुये दिखाई देते हैं। अधिकांश पुलिस कर्मी तो पूरी तन्मयता से लगे हुये हैं, लेकिन कुछ ऐक ऐसे भी है जिनकी लापरवाही के कारण कहीं यह जिला ग्रीन जोन से रेड जोन में तब्दील न हो जाये और कुछ ऐसे भी है जो सुपर हीरो बनने की कोशिश कर रहे हैं। उनमें से एक आसमंा गौतम भी नगर में दिखाई दे रही हैं। 

नौकरी के शुरुआती दौर में कोतवाली थाने में पदस्थ उन निरीक्षक आसमां गौतम  सुर्खियों में हैं और लगातार ऐसे कृत्यों को अंजाम दे रही है जिसके कारण पुलिस अधिकारियों ने उन्हें फटकार भी लगाई है। एक तरफ तो जिले के मुखिया कलेक्टर डॉ. सतेन्द्र सिंह ने निर्देश जारी किया है कि किसी भी हालत में दुपहिया वाहन पर एक व्यक्ति से ज्यादा न चलें एवं विशेष परिस्थिति में चिकित्सकीय वाहन भी उपलब्ध करायेें गये हैं तथा खुद कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने अपने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वो इन दिनों संक्रमण फैलाव की स्थिति में हैं। इस बात को मद्दे नजर रखते हुये हेल्मेट पहनकर भी चला जाये और अगर जो हेल्मेट पहनकर न चलता पाया जाये उस पर जुर्माने की भी कार्यवाही की जाये। लेकिन सत्यमेव जयते यानी खाकी वर्दी का रौब एक अलग ही जुनून है। जहां देश के कोने-कोने में इन दिनों वर्दी धारियों की पूजा हो रही है वहीं शहडोल में एक वर्दीधारी ऐसी भी है जिसने नियमों को तोड़कर जिले के मुखिया एवं जिले के कप्तान के निर्देशों को ठेंगा दिखाते हुये मानवीयता की मिशाल पेश करने का काम कर सुपर हीरो बनने की कोशिश की है। क्या ऐसे में संक्रमण को दावत देना नहीं कहा जायेगा। 

पहले निर्देश का मजाक

उपनिरीक्षक आसमां गौतम ने पहले तो कई बार नियमों का उल्लंघन किया ही है, आज सोशल मीडिया में ऐसी फोटो वायरल हुई जो निर्देशों को ठेंगा दिखा रही थी। नियमों के मुताबिक किसी भी दुपहिया वाहन में तीन लोगों के बैठने की इजाजत नहीं है। लेकिन आसमां गौतम ने एक नहीं, दो नहीं बल्कि स्वयं वाहन को चलाकर दो अन्य लोगों को बैठाकर नियमों का उल्लंघन किया है। क्या ये मोटर व्हीकल एक्ट के तहत कार्यवाही योग्य नहीं है...?

दूसरे निर्देश को ठेंगा

खुद कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि मास्क के साथ-साथ हेल्मेट लगाने से संक्रमण से दोहरा बचाव होगा, साथ ही दुपहिया वाहन चालक सुरक्षित बच सकेंगे एवं किसी भी दुर्घटना से बचा जा सकेगा। लेकिन जिस समय मैडम नियमों का उल्लंघन कर रही थी, उन्हें शायद इस बात का तनिक भी आभास नहीं था कि वो अपने वरिष्ठ अधिकारियों के नियमों को ठेंगा दिखा रही हैं। उन्होने स्कूटी में तीन लोगो की सवारी कर पहले ही नियमों का खिलवाड़ बनाया, ऊपर से बिना हेल्मेट के वाहन चलाकर क्या प्रर्दशित करने की कोशिश की है। 

कहीं ऐसा तो नहीं

हम करें तो नियमों की जय-जय, दूसरा करे तो नियमों का खिलवाड़ - कहीं आसमां गौतम सत्यमेव जयते की वर्दी की आड़ में ऐसा कुछ खेल तो नहीं खेल रही। एक तरफ तो डीएसपी टै्रफिक अखिलेश तिवारी यातायात प्रभारी एवं नगर निरीक्षक राघवेंद्र द्विवेदी हेल्मेट पहनकर न चलने वाले लोगों पर एवं अकारण घर से निकलने वालों पर जुर्माने की कार्यवाही कर रहे हैं। तो दूसरी तरफ इन अधिकारियों की मेहनत पर मानों आसमां गौतम ने पानी फेरने की कसम खा ली है..?

Share To:

Post A Comment: