मेरे देश की  धरोहर सूफ़ीसंत ऋषि मुनि आज अफवाहों की वजह से साधु संतों की हत्या धिक्कार है हमारी जागरूकता पर यह देश की सनातन संस्कृति इंसानियत पर हमला है।

भारत देश की सबसे बड़ी खूबसूरती इस देश के सूफी संत ऋषि मुनि हैं।

जिनकी जप तप तपस्या दुआ और ईश्वर के सच्चे प्रेम की वजह से देश और दुनिया टिकी हुई है।

उनकी मेहनत का अदृश्य है उन्हें धरती के सुख की ललक नहीं उन्हें धरती के संसाधन की चाहत नहीं उन्हें इस धरती की रंग रोनक चटक मटक से लगाओ नहीं मोह माया का त्याग कर अदृश्य सिर्फ और सिर्फ ईश्वर अल्लाह की भक्ति पूजा आराधना इबादत में अपने आप को लगा कर इस देश और धरती और मानवता की रक्षा करते हैं।

जो हमारे समझ के परे है हमारी सोच से ओझल है हमारे सिद्धांतों और सामाजिक जीवन से अदृश्य है।

उनकी भक्ति साधना से हर व्यक्ति फायदा उठा रहा है।

जिसे वह समझ नहीं सकता जिसे वह सोच नहीं सकता जिसे वह पा नहीं सकता

वो ऐसे मदमस्त हैं ईश्वर अल्लाह की पूजा आराधना में वह ऐसे शुक्रगुजार हैं ईश्वर अल्लाह के मिलने में

 जो खाली पेट रहकर शुक्र और सब्र करते हैं ज्यादा खा कर शुक्र करते हैं ना मिलने पर सब्र करते हैं।

उन्हें तुम्हारे माल दौलत से कोई लगाव नहीं उन्हें दांपत्य जीवन सुख कि कोई चाह नहीं

आज हमारी गलतियों की वजह से उन्हें भी लताड़ा जा रहा है।

निर्मोही जीवन व्यतीत कर रहे साधु संतों की हत्या इस देश की परंपरा की हत्या है।

मैंने जैसे ही सुना की मुंबई के पालघर इलाके में एक अफवाह का शिकार बने 3 साधु संत जैसे धरती अपनी जगह से हिल गई हो देश की आत्मा पर सीधा प्रहार हो गया हो

देश की परंपरा से मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं पर अंकुश लगाना बहुत आवश्यक हो गया है।

मॉब लिंचिंग देश के लिए घातक और कलंकित करने वाली घटना है।

इसे अंजाम देने वाले कैसे पापी लोग होंगे जो अफ़वाह मोबाइल व्हाट्सएप फेसबुक से फैलती हैं उस पर तुरंत अमल करते हैं यह कैसे निशाचर लोग हैं।

आज जहां पूरा देश कोरोना महामारी से लड़ रहा है वहीं दूसरी ओर एक बड़ा और भयानक मामला हृदय विदारक घटना हो गई

मैं अपने आप को और अपने दिल को नहीं रोक पा रहा हूं मैं उस दुख को शब्दों में नहीं पुरो सकता

बस इतना कहना चाहता हूं की इन घटनाओं को अंजाम देने वालों के ऊपर कड़ी कार्यवाही हो

 देश में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए मजबूत प्रावधान हो और कठोर सजा का प्रावधान हो

लेखक-अब्दुल कादिर खान "कलयुग की कलम" हिन्दी राष्टीय समाचार पत्रिका वेब न्यूज चैनल 


Share To:

Post A Comment: