खेतों में आग लगने से किसानों की फसलें जली, लाखों का हुआ नुकसान

 गुरुवार दोपहर में भूला और हरदी में शार्ट सर्किट से लगी आग 

कलयुग की कलम (अंकित झारिया)

उमरियापान:- पहले बिन मौसम बरसात, फिर कोरोना और अब आग लगी ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है। गर्मी के शुरू होते ही आग ने तांडव दिखाना शुरू कर दिया है। आए दिन खेत में फसलें राख हो रही हैं। चाहे कारण जो भी हो, बर्बादी तो किसान की ही हो रही है।

ढीमरखेड़ा तहसील क्षेत्र के भूला गांव में भूला-चपोहला मार्ग पर गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे गेंहू की खड़ी फसलों में आग लग गई। खेतों में शार्ट सर्किट के चलते बिजली तारों से गिरी चिंगारियों से आग लगी है। किसानों सहित खेतों के आसपास उपस्थित ग्रामीणों ने किसी तरह आग को काबू किया। विधुत विभाग के डीई नीरज कुचिया को आग लगने जानकारी देकर बिजली चालू करने कहा किंतु विधुत विभाग के अधिकारियों ने बिजली चालू नही कराया। आग लगने से करीब 7 एकड़ में लगी गेहूं की फसल जलकर खाक हो गई है। जिसमें कि भूला निवासी छोटेलाल चौधरी,शीलाबाई यादव, गणेश चौधरी, गोविंद चौधरी, रामप्रसाद भूमिया और केशरी चौधरी की फसल को क्षति पहुचीं हैं।जिससे कि किसानों को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है।मौके पर पहुँचे पटवारी ने किसानों को हुए नुकसान का आंकलन करते हुए पंचनामा कार्रवाई किया है। इस दौरान पुलिस बल और ग्रामीणों की उपस्थिति रही।

यहाँ भी शॉर्ट सर्किट से लगी आग:- गुरुवार दोपहर करीब 1बजे उमरियापान के समीप हरदी के अमकुही हार में भी बिजली के शार्ट सर्किट से आग लग गई है। जिससे उमरियापान निवासी रामसेवक चौरसिया के खेतों में लगी गेंहू की एक एकड़ की फसल जल गई है।ग्रामीणों ने मौके आग को जलता देख मौके पर बुझा दिया है।नही तो बड़ी संख्या में किसानों को नुकसान होता।


Share To:

Post A Comment: