महात्मा गांधी की पौत्रवधू शिवालक्ष्मी का निधन, गरीब बच्चों से ऐसा लगाव, उनकी शिक्षा के लिए छोड़ गईं 12 करोड़

कलयुग की कलम 

अहमदाबाद. महात्मा गांधी की पौत्रवधू शिवालक्ष्मी (94) का निधन हो गया है। नासा में 25 साल तक वैज्ञानिक रहे गांधी जी के पौत्र कनुभाई गांधी की पत्नी शिवालक्ष्मी ने गुरुवार रात अंतिम सांस ली। एक सप्ताह पहले तबीयत खराब होने पर पिपलोद के ग्लोबल अस्पताल में दाखिल गया था। कनुभाई के साथ शिवालक्ष्मी 2013 में अमेरिका से भारत आई थीं। वे दोनों सूरत शहर के भीमराड गांव में पिछले कुछ सालों से रह रही थीं। कनुभाई का 2016 में निधन हो गया था। शिवालक्ष्मी का उमरा में अंतिम संस्कार किया गया। हालांकि कोरोना के कारण उनकी यात्रा में बहुत कम लोग ही शामिल हो सके। पति की मौत के बाद शिवालक्ष्मी अलग-अलग आश्रम में रहीं। बाद में भीमराड गांव में रहने लगी। यहां वह पूर्व सरपंच बलवंत ने उनको एक फ्लैट में रखकर उनकी सेवा में जुट गए। 

2016 में उनके पति कनूभाई की सूरत में ही मौत हुई थी : महात्मा गांधी के तीसरे नंबर के बेटे रामदास की दो बेटी सुमित्राबेन और उषाबेन और एक बेटा कनूभाई देसाई थे। कनूभाई विवाह के कुछ समय बाद ही वे अमेरिका चले गए थे। 20

Share To:

Post A Comment: