भूखमुक्त भारत के साथ वैचारिक क्रांति को समर्पित प्रयागराज गौरव गुड्डू मिश्र

          K K K न्यूज रिपोर्टर
                   नैनी 
       सुभाष चन्द्र पटेल

प्रयागराज आज भौतिकतावादी युग में जहां अधिकांश लोग मात्र अपने हित के लिए जनहित से भी समझौता कर लेते हैं वहीं भईया जी का दाल-भात परिवार के संस्थापक प्रयागराज गौरव गुड्डू मिश्र ने स्वयं को भूखमुक्त भारत एवं वैचारिक क्रांति को समर्पित कर दिया है।

जानकारी के अनुसार मां काली शक्ति साधना पीठ व भईया जी का दाल भात परिवार सहित अपने कई अनुषांगिक संगठनों के  जरिये प्राणिमात्र की सेवा, सुरक्षा व संरक्षा को समर्पित गुड्डू मिश्र का एकमात्र संकल्प है कि भारत वर्ष मे कोई भी प्राणी भूखा न सोये तथा सभी लोग आध्यात्मिकता के रास्ते पर चलकर स्वयं के जीवन को धन्य बनाते हुए समाज व राष्ट्र का कल्याण करें।

बता दें कि गुड्डू मिश्र व उनके साथियों द्वारा स्वयं व समाज के सहयोग से भईया जी का दाल भात परिवार के बैनर तले नवम्बर 2018 से प्रयागराज के संगम तट पर बंधवा वाले बड़े हनुमान मंदिर के बाएं अनवरत अन्न क्षेत्र चलाया जा रहा है जोकि प्रयागराज की धरती पर अनवरत चलने वाला पहला अन्न क्षेत्र है जिसमें प्रतिदिन हजारों भूखे लोग भरपेट निःशुल्क भोजन करते हैं। इस योजना के विस्तार के क्रम में जल्द ही प्रयागराज के सभी चिकित्सालयों में भर्ती गरीब मरीजों तक भोजन, दूध व फल पहुँचाने की भी कार्य योजना है।

आज के वार्ता के क्रम में गुड्डू मिश्र के अनुसार उनकी भावी योजनाओं में अनाथ बच्चों के कल्याणार्थ अनाथालय, सेवाश्रम, वृद्ध गायों की सेवा हेतु गौशाला व अन्य सेवा संकल्पों के जरिये देश के प्रत्येक जरूरतमंद की सेवा करना है। गुड्डू मिश्र के भूखमुक्त भारत अभियान, सेवा संकल्प व आध्यात्मिक योजनाओं से देश मे एक नया वैचारिक क्रांति आ रही है व उनके हजारों समर्थक/अनुयायी प्राणीमात्र की सेवा में लगे हैं। गुड्डू मिश्र के अनुयायी उन्हें प्यार से गुड्डू भईया के नाम से जानते हैं। प्रयागराज गौरव बनकर भईया जी का दाल भात के अन्न क्षेत्र से संगम सहित प्रयागराज को एक नई पहचान देने वाले गुड्डू भईया को पूर्ण विश्वास है कि उनके जीवनकाल में ही पूरा भारत वर्ष भूखमुक्त होगा।


Share To:

Post A Comment: