गृहस्थ संत योगी संत देव प्रभाकर शास्त्री दद्दा जी ऐसे संत जो भेदभाव से परे सभी धर्म समाज के लोग जिन्हें अपना मानते और शास्त्री जी सभी से स्नेह रखते

कलयुग की कलम 

गृहस्थ संत देवप्रभाकर शास्त्री दद्दा जी का रविवार को निधन हो गया. पूर्व मंत्री संजय  पाठक ने इस बात की जानकारी सभी शिष्यों को दि   जी के लीवर और किडनी की बीमारी से ग्रसित थे. उन्होंने कटनी स्थित आश्रम में अंतिम सांस ली.

 दद्दा जी के निधन से उनके चाहने वालों में शोक की लहर दौड़ गई.

इससे पहले 'दद्दा जी' को विशेष विमान से शनिवार को शाम 6 बजे नई दिल्ली से उमरिया के रास्ते कटनी लाया गया। दद्दा जी को मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री संजय पाठक अपने विशेष विमान से लेकर यहां आए। दद्दा जी की तबीयत काफी खराब हो चुकी थी, जिसके बाद शनिवार को दिल्ली के डॉक्टरों ने उनकी हालत को देखते हुए जवाब दे दिया था। 

बता दें कि दद्दा जी, लीवर और किडनी की बीमारी से परेशान थे। इलाज के लिए उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जताया शोक

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने 'दद्दा जी' के निधन पर अपने ट्विटर पर एक पोस्ट करते हुए लिखा, "मध्यप्रदेश के महान संत, आध्यात्मिक गुरु, लाखों लोगों के जीवन को दिशा देने वाले, ऐसे महात्मा जिनका सम्पूर्ण जीवन पीड़ित मानवता की सेवा में समर्पित था, जिन्होंने अपनी आध्यात्मिक शक्ति और आशीर्वाद से लोगों की ज़िंदगी बदल दी, ऐसे पूजनीय दद्दाजी के चरणों में श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।"

पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी जताया शोक

पूर्व सीएम कमलनाथ ने 'दद्दा जी' के निधन पर ट्वीट करते हुए लिखा, "गृहस्थ योगी संत देवप्रभाकर शास्त्री दद्दा जी के दुःखद निधन का समाचार मिला। शिवलिंग निर्माण की बात हो या मानव सेवा और परोपकार की, दद्दा जी ने सदैव समाज और धर्म के लिये जीवनपर्यन्त अपना अमूल्य योगदान दिया।"

उनका निधन एक ऐसी क्षति है जो सदैव अपूरणीय रहेगी।

दद्दा देव प्रभाकर शास्त्री जी एक ऐसे संत थे जिन्हें हर व्यक्ति प्रेम करता और मिलने और आशीर्वाद प्राप्त करने की अभिलाषा रखता था वह कभी भेदभाव नहीं करते थे कटनी जिले के अधिकतर मुस्लिम समाज के लोग भी दद्दा जी से जुड़े हुए थे दद्दा जी कटनी के पीर बाबा की मजार भी जाते और मुस्लिम समाज के लोगों को भी अपना आशीर्वाद प्रदान करते लोग शास्त्री जी से मिलने दूर-दूर से आते शास्त्री जी के मानने वाले बॉलीवुड की बड़ी-बड़ी हस्तियां और राजनीतिक दल के बड़े-बड़े चेहरे जिसमें विशेष संजय सत्येंद्र पाठक जी दद्दा जी के परम भक्त माने जाते हैं ।

दद्दा जी सदैव हमारे दिलों में जिंदा रहेंगे और सदा उन्हें याद किया जाएगा

        लेखक 

अब्दुल कादिर खान

 कलयुग की कलम 

Share To:

Post A Comment: