मध्यप्रदेश कोरोना खाद्य सामग्री  वितरण में व्यापक भ्रष्टाचार.. शिव सिंह

 राहत राशि पहुंचाने में सबसे खराब सीएम साबित हुए शिवराज

कलयुग की कलम 

 रीवा/ जनता दल सेक्युलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने मध्य प्रदेश सरकार पर कोरोना  खाद्य सामग्री वितरण पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि इस महामारी में प्रदेश की जनता को राहत राशि पहुंचाने में शिवराज सिंह सबसे खराब सीएम साबित हुए हैं  श्री सिंह ने कहा कि अन्य प्रदेशों में जो व्यवस्था सरकारों ने गरीब मजदूर मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए किया है ऐसी व्यवस्था मध्य प्रदेश मैं देखने को भी नहीं मिली है दूसरे राज्यों में गेहूं चावल के साथ दाल चना नमक तेल शक्कर की भी व्यवस्था सरकारों ने किया है और वहां करीब 70 फ़ीसदी पीड़ितों को खाद्यान्न मुहैया कराया गया है लेकिन मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह सरकार ने सिर्फ़ 25 फ़ीसदी लोगों को प्रति व्यक्ति 5 किलो गेहूं या जिसने गेहूं नहीं लिया उसको सिर्फ 5 किलो चावल मात्र दिया गया है इसके अलावा कोई सामग्री घोषणा मुताबिक वितरित नहीं की गई गरीब के थाली से समूचे मध्यप्रदेश के अंदर सब्जी दाल गायब रही यहां तक कि सरकार ने मध्यमवर्गीय परिवारों को राहत सामग्री से दूर रखा जिन्हें आज राहत सामग्री की भारी आवश्यकता है आज मध्यमवर्गीय परिवार के पास व्यापक आर्थिक संकट उत्पन्न हो चुका है इस कोरोना महामारी को लेकर नगर निगम क्षेत्र एवं जिले स्तर पर जो सर्वे राहत प्रदान किए जाने कराए गए थे उस सूची मुताबिक 25 फ़ीसदी भी खाद्य सामग्री का वितरण अभी तक नहीं किया गया है पीड़ित जब नगर निगम अधिकारियों से खाद्य सामग्री की  पर्ची मांगते हैं तो उनके द्वारा कहा जा रहा है कि कलेक्ट्रेट कार्यालय से पर्चियां प्राप्त नहीं हुई जब पीड़ित पार्षदों या सरपंचों से मुलाकात करते हैं तो उनके द्वारा कहा जाता है की कलेक्टर ने रोक लगा दिया है इस तरह से जनता को गुमराह किया जा रहा है श्री सिंह ने कहा कि ग्राम पंचायत क्षेत्रों में 3 माह का जो खाद्यान्न वितरण किया जाना था उसमें मार्च-अप्रैल मई 3 माह में से सिर्फ 2 माह का खाद्यान्न वितरित किया गया है एक माह का कोटेदारों ने एफसीआई से सीधे उठाकर मंडियों एवं किराना दुकानदारों को बेच दिया है इसी तरह शहरी नगर निगम क्षेत्रों में 50 फ़ीसदी खाद्यान्न को सीधे एफसीआई से उठाकर ब्लैक कर दिया गया इस समूचे घोटाले में जिला प्रशासन की पूरी तरह  मिलीभगत सामने आ रही है और यह भ्रष्टाचार का पैसा जिला प्रशासन के माध्यम से मध्य प्रदेश सरकार तक वापस पहुंच रहा है इस तरह से भ्रष्टाचार का खेल समूचे मध्यप्रदेश में चल रहा है श्री सिंह ने रीवा जिले सहित समूचे मध्यप्रदेश में खाद्यान्न घोटाले की जांच की मांग करते हुए कहा कि इस कोरोना आपदा में प्रत्येक जिलों के लिए एफसीआई एवं अन्य एजेंसियों द्वारा जिलेवार  कितनी खाद्यान्न सामग्री राशन की दुकानों में किन-किन वाहन नंबरों से भिजवाई गई है और उसमें से किस व्यक्ति को कितनी सामग्री प्रदान की गई है तथा सहकारी समितियों में अभी कितना खाद्यान्न शेष है समूचे मामले की उच्च स्तरीय जांच से सारे राज खुल जाएंगे श्री सिंह ने मामले की वरिष्ठ एजेंसी से जांच कराए जाने की मांग की है 

                     
                 शिव सिंह एडवोकेट
प्रदेश अध्यक्ष जनता दल सेक्युलर मध्य प्रदेश
Share To:

Post A Comment: