Covid-19 लोकडॉन के बीच शराब बेची जा सकती है लेकिन पान दुकान नहीं खोली जा सकती ऐसा क्यों पान के व्यापारी पनसारी किसानों की बदहाल हालत पर नहीं हो रहा विचार

कलयुग की कलम 

सभी जिलों और देशभर में शराब की दुकानें खोली गई होम डिलीवरी होटलें भी खोल दी गई रेस्टोरेंट में सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए नाश्ता-खाना और अन्य खाने की चीजें बेची जा रही है। इसी के मद्देनजर पान दुकानें बंद कर दी गई हैं। जहां तक की मेंस पार्लर भी खोल दिए गए कटनी जिले में तो लाभ लाक डाउन नाम मात्र के लिए बाकी रह गया है। सभी व्यापारी दुकान खोल रहे हैं और ग्राहक भी भरपूर लाभ ले रहे हैं । लेकिन एक ऐसा वर्ग व्यवसायिक आज भी चिंतित और परेशान नजर आ रहे हैं वह हैं पान के व्यापारी पान के छोटे-छोटे पान के टपरे से जीवन यापन करने वाले व्यापारियों से जब हमारे लेखक अब्दुल कादर खान ने मुलाकात की तो उनका दर्द समझ में आया एक तो गरीब और छोटे व्यापारी दूसरा लाक डाउन की वजह से लंबे समय से दुकानें बंद हैं । उनका कहना है कि जब सभी शराब दुकानें होटल जलपान गृह खोले जा सकते हैं तो लोग डाउन का पालन करते हुए सामाजिक दूरी बनाकर पान की दुकानें क्यों नहीं खोली जा सकती इस पर सरकार को ध्यान देना चाहिए और इसके लिए भी नियम बनाकर इन्हें सुचारू ढंग से चालू कर देना चाहिए क्योंकि पान के पंसारी किसानों को भारी नुकसान हो रहा है व्यापारिक संगठन ने भी कलेक्टर कटनी को ज्ञापन सौंपकर यह जानकारी देकर मांग की है। लेकिन अब तक शासन प्रशासन द्वारा कोई आदेश निर्देश नहीं दिए गए हैं। टपरे वाले छोटे व्यापारियों पर ध्यान देना आवश्यक है क्योंकि लंबे समय से बेरोजगार होने की वजह से मानसिक आर्थिक तरह से टूट कर शोषित महसूस कर रहे हैं ।

        लेखक 

अब्दुल कादिर खान 

 कलयुग की कलम

Share To:

Post A Comment: