पंचायतों के फर्जी बिल लगते हैं राधे राधे ट्रेडर्स सिलौड़ी में

कलयुग की कलम 

कटनी -भ्रष्टाचार करने वाले शासकीय कर्मचारी मोटी कमाई एवं शासन की राशि खाने के चक्कर में अनेकों उपाय निकाल लेते हैं कहीं फर्जी बिल लगाते हैं तो रिश्तेदार एवं घर वालों के ट्रेडर्स पर भुगतान करके राशि आहरित करते हैं ढीमरखेड़ा जनपद अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत घाना में पदस्थ सचिव द्वारा पंचायत में हुए कार्यों का जो भी फर्जीवाड़ा भुगतान किया जाता है वह अपनी पत्नी के नाम पर बने राधे राधे ट्रेडर्स के नाम पर किया जाता है ग्राम पंचायत घाना में पदस्थ सचिव कुंज बिहारी चंपूरिया द्वारा पंचायत में हुए विकास कार्यों के भुगतान राधे राधे ट्रेडर्स के बिल लगाकर ओने पौने दामों में सामग्री बिल लगाकर मोटी राशि निकाली जाती है और शासन की राशि का  बंदरबांट किया जाता है

आसपास की पंचायतों के भी फर्जी बिल लगते हैं राधे राधे ट्रेडर्स मैं

तथाकथित ट्रेडर्स ग्राम पंचायत घाना में पदस्थ सचिव की पत्नी अनीता चंपूरिया के नाम पर है जिसमें घाना पंचायत के अलावा क्षेत्र के कई पंचायतों के बिल लगाए जाते हैं जब भी अन्य पंचायतों को कोई भी फर्जी बिल लगाना होता है तो राधे ट्रेडर्स में बिल लगाकर ट्रेडर्स मालिक को पांच से 10 परसेंट देकर शासन की राशि का बंदरबांट किया जाता है जबकि एक पंचायत सचिव को अपने रिश्तेदारों या कि घर के ट्रेडर्स बिल लगाना आधिकारिक स्तर पर एक जांच का विषय है

दशरमन पंचायत में भी मिट्टी परिवहन के लगे फर्जी बिल

कुछ दिनों पूर्व ढीमरखेड़ा एसडीएम से शिकायत के बाद हमारे पुलिसवाला समाचार में ग्राम दशरमन में पंचायत द्वारा किए गए 1450000 की ग्रेवल सड़क में फर्जी भुगतान एवं मुरम मिट्टी के जो फर्जी बिल लगाए जाने की खबर प्रकाशित की गई थी उसमें भी जो फर्जी बिल लगाए गए हैं  राधे राधे ट्रेडर्स के नाम पर लगाए गए थे  जिससे स्पष्ट होता है कि चिन्हित पंचायतों में जो भी फर्जी बिल लगाए जाते हैं उसमें राधे राधे ट्रेडर्स को उपयोग किया जाता है


Share To:

Post A Comment: